दागियों को बचाने वाला विधेयक मेरे लिए नहीं था: लालू यादव

  • दागियों को बचाने वाला विधेयक मेरे लिए नहीं था: लालू यादव
You Are HereNational
Saturday, February 22, 2014-1:52 AM
नई दिल्ली : पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने उन आरोपों को गलत बताया है जिनमें ये कहा जा रहा है कि दागियों को चुनाव लडऩे का हक दिलाने के लिए विधेयक उनकी वजह से लाया गया था। लालू ने ये मानने से इनकार कर दिया कि उनका राजनीतिक करियर खत्म हो चुका है।
 
टीवी चैनल टाइम्स नाउ के कार्यक्रम फ्रेंकली स्पीकिंग में अरनब गोस्वामी को दिए एक दिलचस्प इंटरव्यू में लालू ने कई सवालों के जवाब बेबाकी से दिए। उन्होंने कहा कि ये कहना सही नहीं होगा कि उनका राजनीतिक करियर खत्म हो चुका है। भले ही वे अगले छह साल तक चुनाव लड़ सकें लेकिन फिर भी राजनीति में उनकी धमक बनी रहेगी।
 
लालू ने हाल ही में सामने आई आम आदमी पार्टी को रिजेक्ट करते हुए कहा कि ये एक नकारात्मक सोच रखने वाले लोगों को पार्टी है। इसमें कुछ ऐसे लोग भी आ गए हैं जो कल तक मीडिया से जुड़कर नेताओं को चोर बता रहे थे और अब खुद राजनीतिक महत्वाकांक्षा पूरी करने के लिए राजनीति में पहुंच गए हैं।
 
29 साल की आयु में पहली बार सांसद बनने वाले और 41 साल की आयु में बिहार के सी.एम. बन जाने वाले लालू प्रसाद यादव अब 66 साल के हो चुके हैं और अभी कानूनन चुनाव नहीं लड़ सकते हैं। लालू ने कहा कि उन्होंने ये कभी नहीं कहा कि वे पी.एम. नहीं बनना चाहते हैं।
 
लालू ने उन आरोपों को भी सिरे से खारिज कर दिया कि उन्हें राहत देने के लिए सी.बी.आई. ने उनके खिलाफ चल रहे तमाम मामलों में जांच की गति को सुस्त बनाए रखा। लालू का कहना था कि उनके खिलाफ कई-कई केस चला दिए गए थे और उन्होंने कहा था कि सबकी एक साथ सुनवाई की जानी चाहिए। उन्हें किसी प्रकार की राहत नहीं मिली।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You