कोई ताकत नहीं छीन सकती भारत से अरुणाचल: मोदी

  • कोई ताकत नहीं छीन सकती भारत से अरुणाचल: मोदी
You Are HereNational
Saturday, February 22, 2014-9:23 PM

ईटानगर/गुवाहाटी/अगरतला: पूर्वोत्तर के राज्यों के दौरे पर आए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने अरुणाचल प्रदेश पर चीन के बार-बार दावा करने का करारा जवाब देते हुए शनिवार को कहा कि दुनिया की कोई भी ताकत भारत से इस राज्य को अलग नहीं कर सकती है। मोदी ने अरुणाचल प्रदेश के पासीघाट, असम के सिल्चर और त्रिपुरा की राजधानी अगरतला में सभाएं की। मोदी ने इस दौरान स्थानीय समस्याओं का उल्लेख करने के साथ ही सत्ता में आने पर उन्हें दूर करने का भरोसा भी दिलाया।

राज्य के पासीघाट कस्बे में जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘राज्य के बहादुर शहीदों के कारण ही देश की पूर्वोत्तर सीमा सुरक्षित है। समय बदल रहा है और चीन को भी अरुणाचल प्रदेश के प्रति अपने रवैए में बदलाव लाना होगा। मैं यहां आपको यह आश्वासन देने आया हूं कि दुनिया की कोई भी ताकत भारत से अरुणाचल प्रदेश को अलग नहीं कर सकती।’’ चीन की विस्तारवादी मानसिकता को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा, ‘‘विस्तारवाद के लिए दुनिया में कोई जगह नहीं है। विचार विकास का है।

किस तरह देश का विकास किया जा सकता है, लोगों के लिए क्या किया जा सकता है। चीन को अपनी विस्तारवादी मानसिकता से बाज आना होगा।’’ मोदी ने कहा, ‘‘पूरब में अरुणाचल प्रदेश पर सबसे पहले सूर्य की किरणें पड़ती हैं और पश्चिम में गुजरात पर सबसे अंतिम किरण पड़ती है। गुजरात में अस्त होता हुआ सूरज हर शाम यह वादा करता है कि अगली सुबह वह फिर अरुणाचल प्रदेश में आएगा।’’ उन्होंने आगे कहा कि अरुणाचल प्रदेश हर रोज देश को जगाता है।

राज्य की विपुल जल संपदा का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि अरुणाचल प्रदेश पूरे देश को रोशन कर सकता है। लोग हालांकि बड़े बांधों के खिलाफ हैं, लेकिन छोटे बांध बनाकर राज्य की क्षमता का दोहन किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक संसाधनों की वजह से अरुणाचल प्रदेश के पास विश्व की पर्यावरण राजधानी बनने की संभावनाएं हैं। मोदी ने नीडो तानिया की मौत पर भी दुख प्रकट किया, जिसकी राष्ट्रीय राजधानी में पिटाई के बाद मौत हो गई थी। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर के छात्रों और रोजगार की तलाश में जाने वालों के लिए दिल्ली, बेंगलुरू और चेन्नई जैसी जगहों पर छात्रावास बनने चाहिए।

सिल्चर में मोदी ने कहा कि यदि उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो वह बांग्लादेश से होने वाली घुसपैठ, हिंदू शरणाथी और ‘डी’ मतदाता (अपंजीकृत किए गए/संदिग्ध) के मामले 60 महीने के भीतर सुलझा लिए जाएंगे। मोदी ने कहा, ‘‘असम बांग्लादेश की सीमा पर है और गुजरात पाकिस्तान की सीमा से सटा है। जहां असम की सरकार ने बांग्लादेशी घुसपैठियों के कारण होने वाली समस्या को झेलने के लिए विवश किया है, तो पाकिस्तान मेरे लिए गुजरात में समस्याएं खड़ी करता रहता है। अब आपको फैसला लेना है कि आप बांग्लादेश से पीड़ित रहना चाहेंगे या नहीं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मित्रों मैं आपके लिए आया हूं। मुझ पर एकबार भरोसा कीजिए और मैं यदि सत्ता में आ गया तो मैं असम में हिरासत की प्रणाली को ही खत्म कर दूंगा। सरकार वोट बैंक की राजनीति की खातिर लोगों के मानवाधिकार का उल्लंघन कर रही है।’’ उन्होंने आगे कहा कि डी मतदाताओं को उनका अधिकार लौटाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘बांग्लादेश से दो तरह के लोग आते हैं। एक वे हैं जो कट्टरपंथियों की प्रताडऩा के कारण वहां से भागते हैं। दूसरे वे हैं जो राजनीतिक साजिश के तहत आते हैं।

जब दुनिया भर में हिंदुओं की प्रताडऩा होती है तो उनके पास भारत में आने के अलावा और कोई चारा नहीं बचता।’’ इतना कहकर उन्होंने सुझाव दिया कि ऐसे शरणार्थियों को पूरे देश में बसाया जाना चाहिए न कि केवल असम पर बोझ डालना चाहिए। अगरतला में ‘नव चेतना रैली’ को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि कुशासन और बांग्लादेशी पूर्वोत्तर के लोगों के लिए परेशानी पैदा कर रहे हैं, लेकिन गुजरात के सुशासन के कारण पाकिस्तान समस्याओं का सामना कर रहा है।

भारतीय संघ में शामिल होने के त्रिपुरा के पूर्व शासकों के फैसले की सराहना करते हुए भाजपा नेता ने कहा कि सचिन देव बर्मन और राहुल देव बर्मन के जैसे संगीतकारों ने अपने काम के जरिए देश में गौरव हासिल किया। मोदी ने कहा, ‘‘गुजरात के लोगों ने भाजपा को तीन बार चुना, लेकिन त्रिपुरा के लोग वाम मोर्चा को कई बार चुनकर भी समस्याओं का सामना कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘वाम मोर्चा हमेशा लोगों को पिछड़ा बनाए रखना चाहते हैं ताकि वे उनके पिछलग्गू बने रहें।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You