‘सरकार राजीव हत्या मामले में पुनर्विचार करे’

  • ‘सरकार राजीव हत्या मामले में पुनर्विचार करे’
You Are HereNational
Sunday, February 23, 2014-5:10 PM

पुड्डुचेरी: प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री वी नारायणसामी ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी हत्या मामले के दोषी संथन, मुरुगन एवं पेरारीवालन को तमिलनाडु सरकार के  रिहा करने के फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग की है।

नारायणसामी ने यहां प्रेस काफ्रेंस में कहा कि कि उच्चतम न्यायालय ने दया याचिका में देरी होने के आधार पर उन तीनों की फांसी की सजा को बदल कर उम्रकैद कर दी थी एवं इसके साथ ही तमिलनाडु सरकार का मामले में तीनों को रिहा करने का फैसला आया।

उन्होंने कहा कि निचली अदालत, उच्च न्यायालय एवं उच्चतम न्यायालय ने उन तीनों को दोषी माना था एवं फांसी की सजा सुनाई थी। केन्द्रीय मंत्री ने इस मामले में अन्ना द्रमुक द्वारा दोहरा मापदंड अपनाए जाने का आरोप लगाते हए कहा कि अखिल भारतीय अन्ना द्रविड मुनेत्र कषगम ने पूर्व प्रधानमंत्री की हत्या के बाद लिबरेशन टाइगर आफ तमिल ईलम (एलटीटीई) पर प्रतिबंध लगाने के साथ ही उसे आतंकवादी संगठन घोषित करने में काफी तेजी दिखाई थी एवं उसके नेता प्रभाकरन को भारत बुलाने की मांग की थी।

उन्होंने कहा कि अन्न द्रमुक ने इस मामले की अन्य अपराधी नलिनी को पेरोल दिए जाने का भी विरोध किया था। साथ ही उन्होंने अन्न द्रमुक पर आगामी लोकसभा चुनावों के मद्देनजर मामले में दोहरा रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए पार्टी के फैसले पर आश्चर्य जताया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You