साम्प्रदायिकता का एकजुट होकर करना होगा उन्मूलन: राज्यपाल

  • साम्प्रदायिकता का एकजुट होकर करना होगा उन्मूलन: राज्यपाल
You Are HereNational
Sunday, February 23, 2014-11:10 PM

जोधपुर: राजस्थान की राज्यपाल माग्रेट अल्वा ने कहा है कि राजनैतिक दलों सहित सभी को संकीर्णता, जातिवाद एवं साम्प्रदायिकता का एकजुट होकर उन्मूलन करना होगा ताकि आधुनिक एवं समावेशी भारत का निर्माण किया जा सके। श्रीमती अल्वा आज यहां ऑल इंडिया क्षत्रिय फैडरेशन के समारोह में बोल रही थीं। समारोह को केन्द्रीय संस्कृति मंत्री चन्द्रेश कुमारी और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह ने भी सम्बोधित किया।

राज्यपाल ने चिन्ता प्रकट की कि राजनैतिक दलों द्वारा सार्वजनिक मंचों से साम्प्रदायिकता एवं जातिवाद के विरोध के बावजूद यदा कदा उम्मीदवारों का चयन एवं मंत्रिमंडल का गठन जाति एवं धर्म के आधार पर किया जाता है। उन्होंने कहा कि शादी ब्याह में तो जाति धर्म का महत्व है ही। उन्होंने कहा कि इन विषयों पर गहन आत्मनिरीक्षण की जरुरत है। उन्होंने खुशी जताई है कि नए नेता राजनीति में जातिवाद एवं साम्प्रदायिकता पर सवाल उठा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि जाति आधारित भेदभाव को पोषित करने वाली प्रथाओं को त्यागने की जरुरत है। आज समाज वैचारिक संकीर्णता से उबर रहा है। अंतरजातीय तथा अंतरधर्म विवाहों को मान्यता मिल रही है। राज्यपाल ने कहा कि ऑल इण्डिया क्षत्रिय फैडरेशन अपनी समितियों द्वारा जाति एवं धर्म से ऊपर उठकर जरुरतमंद लोगों की मदद के लिए राजस्थान सहित पूरे देश में सामाजिक .सांस्कृतिक कार्यक्रम चला रहा है .ऐसे प्रयास आधुनिक भारत के निर्माण में सहायक हैं।

श्रीमती अल्वा ने अपने पारिवारिक जीवन का उदाहरणदेते हुए कहा कि वह राजपूत परिवार की समधिन हैं, उनकी एक पुत्रवधू राजपूत है। उनके तीनों पुत्रों ने विभिन्न समुदायों की कन्याओं से विवाह किया तथा उनके पति की एक बहन ने लंदन में बंगलादेशी मुस्लिम से और उनके भाई ने कोकंणी ब्राम्हण कन्या से विवाह किया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You