पेंगुइन इंडिया से उच्च न्यायालय की शरण में जाने का आग्रह

  • पेंगुइन इंडिया से उच्च न्यायालय की शरण में जाने का आग्रह
You Are HereNational
Sunday, February 23, 2014-11:40 PM

नई दिल्ली: हाल ही अमेरिकी लेखक वेंडी डोनिगर की हिंदुवाद पर किताब को वापस लेने वाले प्रकाशक पेंगुइन इंडिया से अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को बरकरार रखने के लिए उच्च न्यायालय की शरण में जाने का आग्रह किया गया है। लेखकों और अध्येताओं के एक समूह ने रविवार को कहा कि वे लोग किताब वापस लेने के संबंध में अभी तक जितने हस्ताक्षर हुए हैं उसके साथ आवेदन पेंगुइन इंडिया के प्रबंधन और सरकार के उपयुक्त अधिकारी को अग्रसारित करेंगे।

रोमिला थापर और आशीष नंदी सहित 10 लेखकों और शिक्षाविदों के हस्ताक्षर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है, ‘‘हमने 10 दिनों के भीतर आवेदन पर 3500 लोगों के हस्ताक्षर लिए हैं जिसमें दुनिया भर के प्रमुख विद्वान, लेखक, पत्रकार और प्रकाशक शामिल हैं। हस्ताक्षर करने वालों में पेंगुइन के कई लेखक शामिल हैं।’’

विज्ञप्ति में कहा गया है, ‘‘हम इस आवेदन को सभी हस्ताक्षरों के साथ पेंगुइन इंडिया के प्रबंधन और सरकार के सक्षम प्राधिकृत के पास अग्रसारित कर रहे हैं।’’ पेंगुइन इंडिया ने अमेरिकी प्रोफेसर की हिंदुवाद पर किताब को अदालत से बाहर हुए समझौते के तहत प्रकाशन से बाहर कर दिया। इस समझौते के बाद भारत में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर बहस शुरू हो गई है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You