इण्डियन मुजाहिदीन के निशाने पर नरेंद्र मोदी !

  • इण्डियन मुजाहिदीन के निशाने पर नरेंद्र मोदी !
You Are HereNational
Monday, February 24, 2014-5:26 PM

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की सुरक्षा को लेकर चिन्तित केन्द्रीय खुफिया संगठन इण्डियन मुजाहिदीन (आईएम) पर पैनी नजर रख रहे हैं। उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि आगामी दो मार्च को लखनऊ में मोदी की प्रस्तावित रैली को देखते हुए आईएम पर कडी नजर रखी जा रही है क्योंकि पाकिस्तान प्रशिक्षित आईएम का एक आतंकवादी तहसीन अख्तर उर्फ मोनू को उत्तर प्रदेश में नेपाल सीमा से सटे बहराइच जिले में हाल ही में देखा गया।

सूत्रों ने बताया कि मोनू का बिहार के बोधगया के मन्दिर में गत सात जुलाई को हुए सिलसिलेवार विस्फोटों तथा पटना में मोदी की रैली स्थल पर गत 27 अक्टूबर को किये गये विस्फोटों में हाथ बताया जाता है। पटना की रैली स्थल पर हुए विस्फोटों में पांच लोगों की मृत्यु हो गयी थी और 83 लोग घायल हुए थे जबकि बोधगया के मन्दिर में सिलसिलेवार विस्फोटों में दो पर्यटकों को चोटें आई थीं।

सूत्रों का दावा है कि मोनू स्थानीय स्तर पर छोटे अपराधियों को उकसाकर उनसे विस्फोटों को अंजाम दिलवाता है। वह कर्नाटक या महाराष्ट्र का मूल निवासी बताया जाता है। सूत्रों का कहना था कि पाकिस्तान के इशारे पर काम करने वाले अब्दुल करीम उर्फ टुण्डा की पिछले वर्ष 16 अगस्त की रात में हुई गिरफ्तारी के बाद आईएम के पास शक्तिशाली बम बनाने वालों की कमी हो गयी है। अब स्थानीय स्तर पर बमों की व्यवस्था कर मोनू और उसके साथी विस्फोट करवाते हैं।

अब्दुल करीम को दिल्ली पुलिस की स्पेशल ब्रांच ने भारत, नेपाल सीमा से गिरफ्तार किया था। 70 वर्षीय अब्दुल करीम नई दिल्ली और पानीपत समेत सिलसिलेवार विस्फोटों के 21 मामलों में वांछित था। इसकी गिरफ्तारी सुरक्षा बलों की बडी कामयाबी मानी गयी थी।

सूत्रों ने बताया कि लखनऊ की रैली में  मोदी की सुरक्षा के लिए रैली स्थल पर लोगों के बैठने से लेकर अन्य व्यवस्थाओं पर खुफिया संगठनों की नजर है। मंच पर ज्यादा लोगों को चढने की इजाजत नहीं दी जायेगी। उन्होंने कहा कि रैली में संभावित भीड को देखते हुए रेलवे प्रशासन से कहा गया है कि वे रैली के लिए ली गयी रेलगाडियों को ऐसे प्लेटफार्म पर लगवायें जिससे भीड सीधे बाहर निकल जाये। एक प्लेटफार्म से दूसरे प्लेटफार्म पर जाने की जरुरत न पड़े और सीढिय़ों का प्रयोग न हो।

उन्होंने कहा कि सुश्री मायावती के मुख्यमंत्रित्वकाल में लखनऊ रेलवे स्टेशन पर और गत वर्ष कुम्भ के दौरान इलाहाबाद में हुई भगदड दो प्लेटफार्मों के बीच बनी सीढियों पर हुई थी जिसमें कई लोग मारे गये थे। उन्होंने कहा कि रेलवे प्रशासन ने प्लेटफार्म नम्बर एक पर ही विशेष रेलगाडियों को लगाने का आश्वासन दिया है। रैली के लिए 29 रेलगाडियां बुक की गयी हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You