विहिप ने माता अमृतानंदमयी पर लिखी पुस्तक वापस लिए जाने की मांग की

  • विहिप ने माता अमृतानंदमयी पर लिखी पुस्तक वापस लिए जाने की मांग की
You Are HereNational
Tuesday, February 25, 2014-8:29 AM

कोच्चि: विश्व हिन्दू परिषद (विहिप)के अंतर्राष्ट्रीय महासचिव चंपत राय ने धार्मिक गुरु माता अमृतानंदमयी के खिलाफ उनके ही एक अनुयायी द्वारा लिखी पुस्तक को वापस लिए जाने की मांग की है। राय ने यहां मीडियाा से बातचीत में कहा कि हम नागरिक समाज से हैं तथा मैं इलेक्ट्रानिक सिस्टम से पुस्तक को वापस लिए जाने की मांग करता हूं। हिन्दू समाज को किसी प्रकार से नहीं उकसाना चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि यह हिन्दू समाज को बदनाम करने के प्रचार का हिस्सा है और इस पुस्तक का प्रकाशन एक तरह से राजनीति से प्रेरित है।

 

आस्ट्रेलिया में जन्मी गैप ट्रेडवेल ने अपनी पुस्तक ‘हॉली हेल.. ए मेम्वॉयर ऑफ फैथ.. डिवोशन एंड प्योर मेड्नस’ में दावा किया गया है कि अमृतानंद बहुत सालों से मठ में रह रही थी और कुछ कटु अनुभवों के बाद उन्होंने यह मठ छोड़ दिया। दूसरी तरफ माता अमृतानंदमयी ने पुस्तक में लगाए गए इन अंशों को झुठलाते हुए कहा है कि उनका मठ एक खुलू किताब की तरह है और यहां सभी काम पारदर्शी ढंग से किए जाते हैं।

 

उन्होंने कहा कि मठ में कुछ भी गलत नहीं होता और इस पर लगाये गये आरोप निराधार हैं। इस मामले में केरल के मुख्यमंत्री उम्मेनचांडी ने अमृतानंदमयी का समर्थन करते हुए कहा कि समाज में उनके योगदान को अनदेखा नहीं किया जा सकता। इस बीच माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने  इस मामले की जांच कराने की सरकार से मांग की है। उल्ल्खेनीय है कि पुस्तक में प्रकाशित सामग्री के आधार पर सोशल मीडिया पर विपरीत टिप्पणी करने के मामले में आई टी अधिनियम के तहत कुछ अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किये जाने की मांग की है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You