मीडिया और विपक्ष की आलोचना पर घिरे पर्रिकर

  • मीडिया और विपक्ष की आलोचना पर घिरे पर्रिकर
You Are HereNational
Tuesday, February 25, 2014-3:33 PM

पणजी: गोवा में पत्रकारों और विपक्षी पार्टियों ने मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से सार्वजनिक माफी की मांग की है। उनका कहना है कि पर्रिकर ने जो बयान दिया था वह मीडिया को नीचा दिखाने और इसे धमकाने वाला था। गोवा यूनियन आफ जर्नलिस्ट्स (जीयूजे) ने सोमवार शाम बयान जारी कर रविवार शाम एक सार्वजनिक कार्यक्रम में पत्रकारों के शिक्षा और वित्तीय स्थिति पर पर्रिकर द्वारा उठाए गए सवाल को लेकर उन्हें फटकार लगाई है। गौरतलब है कि पर्रिकर ने सार्वजनिक समारोह में मीडिया और विपक्ष को लेकर बयान दिया था।

 

जीयूजे के महासचिव एश्ले डो रोजैरियो ने कहा, ‘‘जीयूजे इस बयान को अपराध मानते हुए मुख्यमंत्री से सार्वजनिक माफी की मांग करता है। ऐसा पहली बार नहीं है कि जब पर्रिकर ने गोवा में मीडिया और इसकी कार्यशैली पर अनुचित और अपमानजनक प्रहार करते हुए निराधान और अप्रमाणित बयान दिया है।’’ पर्रिकर ने रविवार को एक सार्वजनिक कार्यक्रम में कहा था, ‘‘एक संवाददाता की तनख्वाह कितनी है? एक समाचार वाचक कितना कमाता है? शायद 25000 रुपये। वे ज्यादातर स्नातक होते हैं। वे महान चिंतक, बुद्धिजीवी नहीं होते। वे वही लिखते हैं जो वो समझते हैं।’’

 

मुख्यमंत्री ने यह दावा भी किया था कि राज्य में पेड न्यूज बढ़ रहा है और लोग पैसा लेकर लिखते हैं। जीयूजी ने पर्रिकर से मांग की, कि वह या तो स्पष्ट रूप से सामने आएं और उन पत्रकारों और समाचार पत्रों का नाम बताएं जो उनके अनुसार पेड न्यूज में लिप्त हैं या फिर वह आरोप को साबित करने तक चुप रहें। इधर,  विपक्षी पार्टियों कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने भी पर्रिकर पर अलोकतांत्रिक व्यवहार करने और मीडिया को भयभीत करने का आरोप लगाते हुए उनकी आलोचना की है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You