टीवी सीरियलों में कामकाजी महिलाओं को नहीं दिखाया जाता: शर्मिला टैगोर

  • टीवी सीरियलों में कामकाजी महिलाओं को नहीं दिखाया जाता: शर्मिला टैगोर
You Are HereNational
Wednesday, February 26, 2014-12:06 AM

नई दिल्ली : अभिनेत्री शर्मिला टैगोर ने आज कहा कि महिलाओं के बारे में छोटा पर्दा अभी भी बहुत पुरातनपंथी है और अभी भी उन्हें सिर्फ रसोई तक ही सीमित दिखाया जाता है। उनहत्तर वर्षीय शर्मिला का कहना है कि छोटे पर्दे पर मुख्य भूमिका निभा रही महिलाएं वर्तमान युग के विपरीत पुरातनपंथी तरीके से नजर आती हैं।

शर्मिला ने यहां कहा, ‘‘टीवी की सामग्री पुरातनपंथी है। उनके शो अभी भी बेटे की चाहत और रसोई के इर्दगिर्द घूमते रहते हैं। कोई महिला काम नहीं करती। टीवी पर कामकाजी महिलाएं पूरी तरह अनुपस्थित हैं। वर्तमान में हर महिला नौकरी करती है और अपना परिवार भी संभालती है। आज के युग में महिलाओं के किरदार को ठीक से पेश किया जाना चाहिए।’’

नाटककार फीरोज अब्बास खान के नए टीवी शो ‘‘मैं कुछ भी कर सकती हूं’’ के समर्थन में शर्मिला अपनी बेटी सोहा अली खान के साथ दिल्ली में थीं। खान का यह शो आठ मार्च से दूरदर्शन पर आएगा। इस शो में भारतीय समाज में लिंग निर्धारण, कम उम्र में विवाह, बार-बार गर्भधारण और घरेलू हिंसा आदि जैसे मुद्दों को उठाया जाएगा। सोहा ने कहा कि पुरूष अभिनेताओं को भी महिला-केन्द्रीत शो पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि पुरूष प्रधान समाज में उनकी बातें फर्क पैदा कर सकती हैं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You