Subscribe Now!

अटल जी की परिकल्पना साकार हुई: चौहान

  • अटल जी की परिकल्पना साकार हुई: चौहान
You Are HereNational
Wednesday, February 26, 2014-10:15 AM

उज्जैन: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राज्य की प्रमुख नर्मदा और क्षिप्रा नदियों को जोड़ने की योजना के साकार होने से पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की नदियों को जोडऩे की परिकल्पना साकार हो गई है। चौहान ने विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर की नगरी उज्जैन में रात्रि में नर्मदा, क्षिप्रा सिंहस्थ लिंक परियोजना के लोकार्पण के मौके पर आयोजित भव्य समारोह को बारिश के बीच संबोधित किया। चौहान ने यहां बहने वाली मोक्षदायिनी क्षिप्रा नदी के रामघाट पर आयोजित समारोह में कहा कि इस परियोजना का प्रथम चरण पूरा हो जाने से वाजपेयी की नदियों को जोडऩे की परिकल्पना साकार हुई है। इससे मध्यप्रदेश के साथ मालवांचल का यह क्षेत्र खुशहाल होगा तथा प्रगति के पथ पर आगे बढ़ेगा।

 

उन्होंने कहा कि परियोजना के तहत नर्मदा को अभी तीन और नदियों गंभीर, कालीसिंघ और पार्वती से जोड़ा जाएगा जिससे मालवा की पूरी तस्वीर बदल जाएगी। उन्होंने कहा कि परियोजना पूरी हो जाने पर तीन हजार गांवों और सत्तर शहरों में सोलह लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई और उद्योगों के लिए पानी उपलब्ध हो जाएगा। क्षेत्र में सूखे जैसी स्थिति नहीं बनने पाएगी तथा लोगों को पेयजल की कमी नहीं होगी। इसके पहले दिन में इंदौर जिले के उज्जैनी में नर्मदा क्षिप्रा सिंहस्थ लिंक परियोजना का लोकार्पण वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी, सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी और अनंत कुमार की मौजूदगी में किया गया।

 

क्षिप्रा नदी के उद्गम, स्थल उज्जैनी में ही नर्मदा और क्षिप्रा का मिलन इस योजना के जरिए हुआ है। इस अवसर पर भाजपा के पूर्व अध्यक्ष नितिन गडकरी ने कहा कि इस परियोजना का  प्रथम चरण पूरा होने से इस क्षेत्र में खुशहाली आएगी। नदियों को आपस में जोडऩे से सिंचाई और पेयजल के अलावा अन्य उपयोग के लिए जल प्रचुर मात्रा में उपलब्ध रहेगा। सूखे जैसी समस्याओं से भी निपटने में आसानी होगी। इस समारोह में वरिष्ठ नेता अनंत कुमार, पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी, राज्य के नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री कैलाश विजयवर्गीय और अन्य मंत्री भी मौजूद थे।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You