बैंक पुराने फंसे कर्ज की समस्या से सक्रियता से निपटें: रिजर्व बैंक

  • बैंक पुराने फंसे कर्ज की समस्या से सक्रियता से निपटें: रिजर्व बैंक
You Are HereNational
Thursday, February 27, 2014-2:31 AM

मुंबई: बैंकों की पुराने फंसे कर्ज की राशि में अचानक तेजी आने से चिंतित रिजर्व बैंक ने आज बैंकों से कहा है कि वह इस समस्या से आगे बढ़कर निपटें और अपनी रिण जोखिम प्रबंधन प्रणाली को मजबूत बनायें। रिजर्व बैंक ने बैंकों को यह भी अनुमति दी है कि जिन कंपनियों में उनका कर्ज फंसा है उन्हें अधिग्रहण कर उनकी स्थिति में सुधार लाने वाली विशिष्ट कंपनी को वह कर्ज दे सकते हैं।

रिजर्व बैंक ने इस संबंध में जारी अधिसूचना में कहा है, ‘‘यह तय किया गया है कि बैंक संकट में फंसी कंपनियों के अधिग्रहण के लिये स्थापित की गई विशिष्ट कंपनी को कर्ज सुविधायें प्रदान कर सकते हैं लेकिन यह सब सामान्य दिशानिर्देशों के तहत करना होगा।’’ इसमें कहा गया है कि बैंकों को इस बात का ध्यान रखना होगा कि इस तरह के वित्तपोषण के साथ जुड़े जोखिम का भी आकलन ठीक से कर लें। इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिये कि इस प्रकार की कंपनी उपयुक्त तरीके से पूंजीसंपन्न हो और उसका रिण इक्विटी अनुपात 3:1 से अधिक नहीं होना चाहिये।

रिजर्व बैंक की अधिसूचना में कहा गया है कि बैंकों के निदेशक मंडल को बैंकों की लगातार बिगड़ती संपत्ति गुणवत्ता को नियंत्रित करने के लिये हर जरूरी कदम उठाना चाहिये और इसके साथ ही रिण जोखिम प्रबंधन प्रणाली में सुधार पर ध्यान देना चाहिये। संपत्ति गुणवत्ता की समस्या की जल्द से जल्द पहचान कर उसके शीघ्र समाधान के लिये बैंकों को अधिक सक्रिय होने की जरूरत है। इसमें कहा गया है कि बैंकों को बड़े कर्ज पर सूचनाओं की प्राप्ति के लिये प्रस्तावित केन्द्रीय रिपॉजिटरी का भी इस्तेमाल करना चाहिये।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You