'किसी के बाप के नौकर नहीं हैं, जो कमल पर वोट के लिए पैसे वसूली करते रहें'

  • 'किसी के बाप के नौकर नहीं हैं, जो कमल पर वोट के लिए पैसे वसूली करते रहें'
You Are HereNational
Friday, February 28, 2014-11:33 PM

 नई दिल्ली  (धनंजय कुमार): इस बार के लोकसभा चुनाव में सरकार बनाने के बुलंद इरादों से मैदान में उतरी भाजपा को उसके अपने ही नेता व कार्यकत्र्ता पलीता लगा रहे हैं। जन-जन तक पहुंचने की मुहिम को आगे बढ़ाने के लिए प्रदेश प्रभारी के कड़े 

तेवर कार्यकत्र्ताओं को रास नहीं आ रहे हैं। 
 
हालत यह हो गई है कि काम करने के  नाम पर कार्यकत्र्ता एक-दूसरे पर लात-घुसे बरसा रहे हैं। वह भी प्रदेश प्रभारी व महामंत्री के सामने, जिसे रोकने के बजाय वहां मौजूद नेता चुपचाप खिसकते नजर आ रहे हैं। कार्यकत्र्ता तो यहां तक कह रहे हैं कि हम किसी के बाप के नौकर नहीं हैं, जो एक नोट, कमल पर वोट के लिए पैसे वसूली करते रहें।
 
शुक्रवार को रोहिणी सैक्टर-16 स्थित बंसल भवन में ऐसा ही नजारा देखने को मिला। लोगों से जुडऩे के उद्देश्य के साथ पार्टी आला कमान ने जिस एक नोट, कमल पर वोट अभियान की शुरूआत की थी। शुक्रवार सुबह 10 बजे बंसल भवन में इसी की समीक्षा बैठक चल रही थी। यहां प्रदेश भाजपा प्रभारी प्रभात झा, संगठन महामंत्री विजय शर्मा व प्रदेश उपाध्यक्ष आशीष सूद के अलावा विधायक नीलदमन खत्री, कुलवंत राणा तथा गुगन सिंह, पूर्व विधायक जय भगवान अग्रवाल व पूर्व सांसद अनिता आर्या के अलावा बाहरी जिला व मंडल के करीब सभी पदाधिकारी मौजूद थे। 
 
बैठक में प्रभात झा ने पैसों के डिब्बे खाली होने की वजह कार्यकत्र्ताओं पूछा तो सभी ने अपने-अपने तर्क रखे। वहां मौजूद सूत्र बताते हैं कि प्रभात झा को कार्यकत्र्ताओं का तर्क नागवार गुजरा और उन्होंने अपने तेवर कड़े करते हुए कार्यकत्र्ताओं को काम न करने पर पार्टी से बाहर तक निकालने की चेतावनी दे डाली। 
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You