मुफ्त चावल पाकर लोग बन गए हैं शराबी: निश्चलानंद सरस्वती

  • मुफ्त चावल पाकर लोग बन गए हैं शराबी: निश्चलानंद सरस्वती
You Are HereChhattisgarh
Monday, March 03, 2014-1:21 PM

रायपुर: छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य के गरीबों को 1 रुपये किलो चावल देने की योजना शुरू की हुई है जिसकी पुरी पीठ के शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती ने आलोचना की। निश्चलानंद सरस्वती ने छत्तीसगढ़ में मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ने 1 रुपये किलो चावल देने की बात की, उसका पालन भी किया लेकिन नतीजा यह हुआ कि मजदूरी महंगी हो गई, विकास ठप्प हो गया और लोग शराबी बन गए।

 

उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल देश के कई मुद्दों को लेकर चुनाव लड़ते हैं लेकिन जब वे लोग चुनाव जीत जाते हैं तो जो मुद्दे उन्होंने देश के सामने रखे होते हैं वे उनको भूल जाते हैं। शंकराचार्य ने कहा कि  राजनीतिक दलों को चुनावी मुद्दा बनाने से पहले उसके हर पहलू पर सोचना चाहिए। खास तौर से कांग्रेस व बीजेपी को इस ओर ध्यान देना चाहिए।

 

पार्टियां राम जन्मभूमि के नाम पर, सीमा सुरक्षा के नाम पर, गरीबी दूर करने के नाम पर, नदी-समुद्र जोड़ने के मुद्दों पर सरकारें बनती हैं, पार्टियां बाद में उन मुद्दों को भूल जाती हैं। गौरतलब है कि इससे पहले भी शंकराचार्य ने राजिम को पांचवां कुंभ कहे जाने पर कड़ी आपत्ति जताई थी और राज्यपाल और सरकार के मंत्रियों की जमकर खिंचाई की थी।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You