चुनावी दंगल में किस्मत अजमाएगे वी.के. सिंह

  • चुनावी दंगल में किस्मत अजमाएगे वी.के. सिंह
You Are HereNational
Monday, March 03, 2014-4:44 PM

नई दिल्ली: जंग के मैदानों में सैन्य जनरलों का कितना ही शौर्यपूर्ण रिकार्ड या अनुभव रहा हो लेकिन चुनावी अखाडों में उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा है। जनरल वी. के. सिंह सेना के ऐसे पहले जनरल नहीं है, जिन्होंने अपनी वर्दी उतारने के बाद अपना राजनीतिक रंग दिखाया हो। उनसे पहले भी सैन्य जनरलों ने चुनावी दंगल में कदम रखा लेकिन दुनिया के इस सबसे लोकतंत्र के मतदाताओं ने उन्हें नकार दिया। सैन्य एवं राजनीतिक मामलों के विशेषज्ञों ने याद दिलाया कि फील्ड मार्शल के.एम. करियप्पा जैसे पांच सितारा जनरल को चुनावी जंग में हार का सामना करना पड़ा था।

जनरल वी.के. सिंह ने सैन्य प्रमुख पद से मई 2012 में अवकाश ग्रहण किया था और उसके तुरंत बाद उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा दिखनी शुरू हो गई थी। इससे पहले सैन्य प्रमुख के रूप में अपने आखिरी एक साल के कार्यकाल में उन्होंने जन्म तिथि के विवाद को लेकर विभिन्न मोर्चों पर सरकार से जंग लड़ी और मामले को वह कानून के सर्वोच्च अखाड़े में भी ले गए और वहां से भी उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ा था। आखिरकार अपने विकल्पों को गहराई से तौलने के बाद पिछले सप्ताह भाजपा में पूर्व सैनिकों के दलबल के साथ प्रवेश कर लिया। इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि वह राजस्थान या हरियाणा से चुनावी मैदान में उतारे जा सकते हैं।

सेना से अवकाश ग्रहण करने के बाद लैफ्टिनैंट जनरल नाथू सिंह ने भी राजस्थान से ही चुनाव लड़ा था। वह स्वतंत्र  पार्टी से भीलवाड़ा में उम्मीदवार बने थे लेकिन वहां उन्हें कांग्रेस के उम्मीदवार ने परास्त कर दिया था। फील्ड मार्शल करियप्पा ने 1971 में राजनीति के समर में कदम रखा। उन्होंने बम्बई से चुनाव लड़ा था लेकिन उनके सामने पूर्व रक्षा मंत्री कृष्ण मेनन और आचार्य कृपलानी जैसे चोटी के उम्मीदवार थे।इस भीषण चुनाव संग्राम में फील्ड मार्शल करियप्पा को हार का सामना करना पड़ा और कृष्ण मेनन चुनाव जीत गए थे। पूर्व जनरलों में एक और सैन्य अधिकारी जनरल शंकर राय चौधरी ने राजनीति में प्रवेश किया लेकिन उन्होंने राज्यसभा का सुरक्षित रास्ता अपनाया। उन्हें पश्चिम बंगाल की माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार ने निर्दलीय उम्मीदवार के बतौर राज्यसभा में भेजा था।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You