थॉमस ने लोकपाल सर्च कमेटी से लिया नाम वापस

  • थॉमस ने लोकपाल सर्च कमेटी से लिया नाम वापस
You Are HereNational
Monday, March 03, 2014-7:59 PM

नयी दिल्ली: जाने-माने कानूनविद फली एस नरीमन के लोकपाल चयन प्रक्रिया में शामिल होने इन्कार करने के बाद अब सर्च कमेटी की अध्यक्षता करने वाले उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश के टी थॉमस ने अपना नाम वापस ले लिया है। प्रधानमंत्री कार्यालय को लिखे पत्र में न्यायमूर्ति थॉमस ने कहा है जिस सर्च कमेटी का नेतृत्व वह कर रहे हैं वह सही उम्मीदवार का चयन नहीं कर सकती।

उन्होंने कहा कि मुझे आश्चर्य हो रहा है कि आखिर सर्च कमेटी की जरूरत क्या है। यदि सर्च कमेटी द्वारा नामित उम्मीदवारों पर प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली चयन समिति द्वारा वीटो किया जा सकता है, तो सर्च कमेटी की जरूरत ही क्या है। गौरतलब है कि नरीमन ने गत सप्ताह सर्च कमेटी में शामिल होने से इन्कार करते हुए संबंधित प्रक्रिया को हास्यास्पद करार दिया। उन्होंने लिखा था कि लोकपाल की चयन प्रक्रिया हास्यास्पद और बेतुकी है और वह संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार द्वारा गठित सर्च कमेटी का हिस्सा नहीं बनेंगे।

सर्च कमेटी लोकपाल अध्यक्ष और इसके चार, न्यायिक और इतने ही गैर-न्यायिक सदस्यों के चयन के लिए प्राप्त आवेदनों पर विचार करके इसे प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता वाली पांच, सदस्यीय चयन समिति को सौंपेगी, जो अंतिम फैसला लेकर राष्ट्रपति को मंजूरी के लिए भेजेगी।

पांच सदस्यीय चयन समिति में प्रधानमंत्री के अलावा लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार, उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के प्रतिनिधि के तौर पर न्यायमूर्ति एच एल दत्तू. लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज शामिल हैं। पांचवें सदस्य के रूप में प्रधानमंत्री ने वरिष्ठ अधिवक्ता पी पी राव को शामिल किया है, जिसका भारतीय जनता पार्टी यह कहते हुए विरोध कर रही है कि राव संप्रग-दो के समर्थक रहे हैं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You