मैट्रो ट्रेन के आगे कूदकर युवती ने दी जान

  • मैट्रो ट्रेन के आगे कूदकर युवती ने दी जान
You Are HereNational
Tuesday, March 04, 2014-1:47 AM
नई दिल्ली : पश्चिमी दिल्ली स्थित राजौरी गार्डन मैट्रो स्टेशन पर सोमवार सुबह उस समय अफरा-तफरी का माहौल पैदा हो गया, जब एक युवती ने मैट्रो ट्रेन के आगे छलांग लगा दी। 
 
मैट्रो स्टेशन पर मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने घायल अवस्था में युवती को नजदीक स्थित कुकरेजा अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतका की पहचान 31 वर्षीय ओमवती उर्फ आशु के रूप में हुई है। पुलिस को मृतका के पास से मां के नाम लिखा एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें उसने किसी को आत्महत्या के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया है। 
सुसाइड नोट में मृतका ने कुछ दिन के लिए अपनी मौसी को घर बुलाने का भी जिक्र किया है।
 
 घटना के तुरंत बाद पुलिस ने उसके परिजनों को सूचना दी। वहीं, घटना के बाद कुछ देर के लिए द्वारका-नोएडा, वैशाली मैट्रो रूट प्रभावित रहा। लगभग 10.45 बजे मैट्रो रूट फिर से सुचारू हो सका। फिलहाल, पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए डी.डी.यू. अस्पताल में सुरक्षित रखवा दिया है।
 
 पुलिस मामले की जांच कर रही है।  पुलिस के मुताबिक ओमवती उर्फ आशु पिता प्रेमराज व 2 भाइयों के साथ टैगोर गार्डन के एम-ब्लॉक स्थित25 फुट रोड के पास रहती थी। प्रेमराज राजौरी गार्डन में ही किसी निजी कंपनी में सुरक्षा गार्ड की नौकरी करता है। वहीं, आशु पूसा अनुसंधान केंद्र में अनुबंध के आधार पर कंप्यूटर ऑपरेटर के पद पर कार्यरत थी। रोजाना की तरह वह सुबह 9 बजे घर से ड्यूटी के लिए निकली थी। 
 
सुबह 10.25 बजे जैसे ही राजौरी गार्डन मैट्रो स्टेशन के प्लेटफार्म पर द्वारका-वैशाली रूट की मैट्रो प्रवेश की, मैट्रो के आगे आशु ने छलांग लगा दी, जिससे उसका आधा शरीर ट्रेन और ट्रैक के बीच में फंस गया। इससे मैट्रो स्टेशन पर अफरा-तफरी का माहौल हो गया। 
 
सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे सी.आई.एस.एफ. के जवानों ने ट्रैक में फंसी आशु को बाहर निकाला। उसे तुरंत कुकरेजा अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बताया जा रहा है कि आशु के सिर में गंभीर चोटें आईं थीं, जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई।
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You