आचार संहिता लागू होने पर कांग्रेस तय नहीं कर पाई प्रत्याशी

  • आचार संहिता लागू होने पर कांग्रेस तय नहीं कर पाई प्रत्याशी
You Are HereNational
Thursday, March 06, 2014-6:07 PM

शिमला: आगामी लोकसभा चुनाव की तिथि घोषित होने के बाद आदर्श चुनाव आचार संहिता लगने के बावजूद प्रदेश में सत्तारुढ़ कांग्रेस भी अपने प्रत्याशियों की घोषणा नहीं कर पाई है। इसके विपरीत भाजपा ने अपनी पहली सूची में शिमला से वर्तमान सांसद वीरेंद्र कश्यप, कांगड़ा से पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार और हमीरपुर से सांसद अनुराग ठाकुर को टिकट थमा दिए हैं। हिलोपा विधायक महेश्वर सिंह की भाजपा में वापसी न होने के कारण मंडी से पार्टी प्रत्याशी को तलाश रही है। महेश्वर सिंह यदि भाजपा में वापस आ जाते तो पार्टी उनको मंडी से प्रत्याशी बना सकते हैं। मौजूदा स्थिति में यहां से लोकसभा उपचुनाव लड़े भाजपा विधायक जयराम ठाकुर ने एक बार फिर चुनाव लडऩे से इंकार किया है, जिससे पार्टी यहां से विकल्प तलाश रही है।

वर्ष, 2009 में कौन जीता चुनाव

लोकसभा सीट
विजयी उम्मीदवार (वोट) हारे उम्मीदवार (वोट)
कांगड़ा डा. राजन सुशांत (3,22,254)
चंद्र कुमार (3,01,475)
मंडी
वीरभद्र सिंह (3,40,973)
महेश्वर सिंह (3,26,976)
हमीरपुर
अनुराग ठाकुर (3,73,598) नरेंद्र ठाकुर (3,00,866)
शिमला 
वीरेंद्र कश्यप (3,20,946)
धनीराम शांडिल (2,83,619)

 


वर्ष, 2009 में भाजपा के खाते में गई 3 सीटें
प्रदेश में वर्ष, 2009 इस समय लोकसभा की 4 में से 3 सीटों पर भाजपा काबिज है। हालांकि डा. राजन सुशांत के बगावत करने के बाद भाजपा ने उनको पार्टी से बाहर कर इस बार पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार को प्रत्याशी बनाया है। कांगड़ा से भाजपा टिकट पर राजन सुशांत कांग्रेस प्रत्याशी चंद्र कुमार से 20,779 वोटों से विजयी रहे थे। शिमला से भाजपा ने इस बार सांसद वीरेंद्र कश्यप को ही प्रत्याशी बनाया है। उन्होंने पिछले चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी धनीराम शांडिल को 27,327 वोटों से पराजित किया था। हमीरपुर से फिर चुनाव मैदान में उतारे गए सांसद अनुराग ठाकुर ने पिछले चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी नरेंद्र ठाकुर को 72,732 वोटों से पराजित किया था। कांग्रेस के खाते में एकमात्र सीट वीरभद्र सिंह की पार्टी के खाते में आई थी। उन्होंने उस समय भाजपा टिकट पर चुनाव लड़े महेश्वर सिंह को 13,997 वोटों से पराजित किया। हालांकि बाद में विधानसभा चुनाव जीतने के बाद मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने मंडी संसदीय सीट से त्यागपत्र दिया। इस कारण यहां पर हुए उपचुनाव में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की धर्मपत्नी प्रतिभा सिंह ने भाजपा प्रत्याशी जयराम ठाकुर को करीब सवा लाख वोटों के विशाल अंतर से पराजित किया था।

कांगड़ा में मुकाबला तिकोना
कांगड़ा लोकसभा चुनाव में अब तक मुकाबला तिकोना नजर आ रहा है। यहां से भाजपा पहले ही पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार को प्रत्याशी बना चुकी है, जबकि भाजपा के बागी डा. राजन सुशांत इस बार आम आदमी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस की तरफ से अभी यहां से प्रत्याशियों की घोषणा नहीं हो पाई है।

मंडी से भाजपा किस पर खेलेगी दाव
मंडी संसदीय क्षेत्र से भाजपा एक बार फिर विधायक जयराम ठाकुर पर दाव खेल सकती है। हालांकि पिछली बार की तरह इस बार भी वह चुनाव लडऩे से इंकार कर चुके हैं। इसके अलावा पार्टी प्रदेश महासचिव रामस्वरुप शर्मा, युवा नेता अजय राणा, विधायक गोविंद ठाकुर, ब्रिगेडियर खुशहाल सिंह और के.के. गुप्ता के विकल्प पर विचार कर रही है।

कांग्रेस किस पर खेल सकती है दाव
कांग्रेस अभी तक अपने प्रत्याशियों को घोषित नहीं कर पाई है। मंडी से मौजूदा सांसद प्रतिभा सिंह का टिकट तय माना जा रहा है। शिमला से टिकट का फैसला मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पर छोडऩे से यहां से रोहड़ू के विधायक मोहन लाल ब्राक्टा को टिकट दिए जाने की संभावना है। इसके अलावा कांगड़ा से केंद्रीय मंत्री चंद्रेश कुमारी और पूर्व सांसद चंद्र कुमार में से किसी एक को टिकट मिलेगा। हमीरपुर सीट से निर्दलीय विधायक राजेंद्र राणा के अलावा पार्टी उद्योग मंत्री मुकेश अग्रिहोत्री, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू और प्रदेश महासचिव रामलाल ठाकुर सहित अन्य विकल्पों पर भी विचार कर रही है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You