‘गरीबों का इलाज के लिए नियमों का करें पालन’

  • ‘गरीबों का इलाज के लिए नियमों का करें पालन’
You Are HereNcr
Friday, March 07, 2014-2:12 AM
नई दिल्ली : उपराज्यपाल नजीब जंग ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे इस बात पर ध्यान दें कि दिल्ली के सभी निजी अस्पताल गरीबों का इलाज होने के मामले में न्यायालय के आदेशों का अवश्य पालन करें।
 
न्यायालय का आदेश है कि सभी निजी अस्पतालों केअंत रोगी विभाग में क्षमता का 10 प्रतिशत और बाह्य रोगी विभाग (ओ.पी.डी.) में 25 प्रतिशत गरीब मरीजों का इलाज हो। 
 
उपराज्यपाल जंग ने यह आदेश बुधवार को अस्पतालों के कार्यक्लापों को लेकर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की एक बैठक में दिया। इस बैठक में स्वास्थ्य विभाग के मुख्य सचिव, वित्त और पी.डब्ल्यू.डी. विभाग के सचिव, राजधानी के कई अस्पतालों के प्रतिनिधि तथा उपराज्यपाल सचिवालय के अधिकारी शामिल भी थे। 
 
बैठक में उपराज्यपाल ने विभिन्न अधिकारियों द्वारा किए अस्पतालों के दौरों से संबंधित रिपोर्ट का निरीक्षण किया। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के सचिव एवं अस्पतालों के प्रतिनिधियों को मरीजों की सुविधाओं जैसे- ओ.पी.डी. सुविधा, दवाइयों की उपलब्धता एवं अस्पतालों की साफ -सफाई, सुरक्षा एवं अन्य मूलभूत सुविधाओं का ध्यान रखने पर जोर दिया।
 
उपराज्यपाल ने वित्त विभाग के सचिव की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया, जिसके सदस्य सचिव स्वास्थ्य विभाग के सचिव पी.डब्ल्यू.डी. विभाग के सचिव होगें। समिति को यह भी निर्देश दिए गए कि वे लोक नायक एवं गुरु तेग बहादुर अस्पताल पर विशेष ध्यान दें तथा उपलब्ध सुविधाओं में सुधार करें ताकि यह अस्पताल एक महीने के भीतर ‘मॉडल अस्पताल’ के रूप में विकसित हो जाए। उपराज्यपाल ने निरीक्षण टीमों को भी निर्देश दिया कि जो अस्पताल उनके द्वारा जांचे गए हैं उन अस्पतालों में सुधार हेतु अपने सुझावों से भी अवगत कराए। 
 
इसके अलावा बैठक में उपराज्यपाल ने इस संबंध में अस्पतालों के बाहर एवं पूछताछ कक्ष के बाहर स्पष्ट सूचना प्रदॢशत करें ताकि गरीब एवं जरूरतमंद मरीज इस सुविधा का लाभ उठा सकें।
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You