जानें एसिड अटैक पीड़िता का सफर टी.वी.एंकर तक

  • जानें एसिड अटैक पीड़िता का सफर टी.वी.एंकर तक
You Are HereNational
Sunday, March 09, 2014-9:50 AM

नई दिल्ली: आपने तेजाब मेरे चेहरे पर नहीं, मेरे सपनों पर डाला था, आपके दिल में प्यार नहीं, तेजाब हुआ करता था..। यह कविता है लक्ष्मी की। पूरा नाम लक्ष्मी सा (एस.ए.ए.) यानी लक्ष्मी स्टॉप एसिड अटैक।

लक्ष्मी आज किसी परिचय की मोहताज नहीं है। किसी के एहसान की भी नहीं, लेकिन जब 2005 में 16 साल की थी तो इसी दिल्ली की खान मार्कीट में एक 32 साल के व्यक्ति ने चेहरे पर तेजाब फैंका था। लक्ष्मी बुरी तरह घायल हो गई थी। वह शारीरिक और मानसिक तौर पर टूट गई। उसे उबरने में सालों लगे। कई दोस्तों ने साथ दिया और आगे बढऩे का हौसला मिला।

आज लक्ष्मी भारत के एक टी.वी. चैनल की एंकर बन गई है। शनिवार रात 10 बजे लक्ष्मी का शो न्यूज चैनल पर प्रसारित भी किया गया। लक्ष्मी के शो का नाम है ‘उड़ान’। लक्ष्मी को टी.वी. में एंकर बनाने का फैसला करने वाले संपादक विनोद कापड़ी ने लिखा, जीवन में कुछ बातें होती हैं, कुछ काम होते हैं, वह आपको इतना सुकून, इतनी खुशी देते हैं जो आपको करोड़ों की धन-दौलत भी नहीं दे सकते हैं। आज का दिन मेरे जीवन के सबसे खूबसूरत दिनों में से एक है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You