उत्तर-पूर्वी सीट पर टिकट को लेकर भाजपा में गुटबाजी

  • उत्तर-पूर्वी सीट पर टिकट को लेकर भाजपा में गुटबाजी
You Are HereNational
Monday, March 10, 2014-11:34 PM

नई दिल्ली (सतेन्द्र त्रिपाठी): विधानसभा चुनाव के समीकरण में उत्तर-पूर्वी दिल्ली संसदीय सीट पर जीत मिलती क्या दिखाई दी कि भाजपा में गुटबाजी हावी हो गई है। हालत यह है कि इस सीट पर भाजपा के दोनों जिलों से एक दर्जन से अधिक उम्मीदवारों को नाम प्रदेश नेतृत्व को भेजे गए है।

जिले की पहली लड़ाई जीत चुके ये नेता अब प्रदेश व राष्ट्रीय स्तर पर अपने आकाओं के यहां हाजिरी लगा रहे है। इस सब में दिलचस्प बात यह है कि एक नेता ने रातो-रात पूरे संसदीय क्षेत्र में तमाम होॄडग लगाकर सबको ऐसा चौंका दिया कि जैसे उनका टिकट ही फाइनल हो गया हो। वैसे दिल्ली अभी दूर है।

सूत्रों का कहना है कि अगर गुटबाजी बढ़ी तो संभावना है कि बाहर से ही किसी उम्मीदवार को यहां भेजा जा सकता है। इनमें कीर्ति आजाद व उनकी पत्नी पूनम आजाद का नाम हो सकता है। फिलहाल महापौर राम नारायण दूबे, श्याम जाजू व जयभगवान गोयल का दावा मजबूत बताया जा रहा है।

3 पार्षद भी टिकट की दौड़ में शामिल हो गए हैं। 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने  5 सीटें, आम आदमी पार्टी ने 3, कांग्रेस ने 2 सीटें जीती हैं। इन 10 सीटों के गणित के हिसाब से भाजपा यह सीट 70 हजार वोटों से जीतती हुई दिखाई पड़ रही है। इसके साथ ही नरेन्द्र मोदी फैक्टर के कारण भी नेता अपनी जीत को लेकर उत्साहित है।

दिल्ली प्रदेश भाजपा ने इस सीट से संभावित उम्मीदवारों के नाम दोनों जिलों से मांगे थे। इनमें नवीन शाहदरा जिला से 8 नाम भेजे गए हंै। इनमें जिला अध्यक्ष अनिल गुप्ता, श्याम जाजू, जयभगवान गोयल, लाल बिहारी तिवारी, पार्षद सत्या शर्मा, महापौर राम नारायण दूबे, पूर्व विधायक आलोक कुमार व प्रवेश शर्मा शामिल है।

इनमें अनिल गुप्ता वैश्य समुदाय की वजह से अच्छे उम्मीदवार हो सकते हैं, उनके नेतृत्व में पार्टी ने रोहताश नगर विधानसभा सीट जीती है लेकिन जिलाध्यक्ष होना उनके लिए नुक्सानदायक हो सकता है। इसके अलावा महापौर राम नारायण दूबे व जयभगवान गोयल इस सीट पर मजबूत उम्मीदवार को रूप में उभरकर सामने आ रहे हैं। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You