मीडिया में आया भटकाव, खुद ही खोजना होगा समाधान: मनमोहन

  • मीडिया में आया भटकाव, खुद ही खोजना होगा समाधान: मनमोहन
You Are HereNational
Thursday, March 13, 2014-1:25 AM

नई दिल्ली: मीडिया द्वारा स्व-नियमन की वकालत करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आज कहा कि ‘‘व्यापक रूप से स्वतंत्र’’ पत्रकारिता में कुछ 8 भटकाव आ गया है और उन्हें दूर करने के लिए उसे खुद ही तरीके खोजने चाहिएं। मलयाला मनोरमा समूह के 125 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में जीवंत और व्यापक रूप से स्वतंत्र मीडिया हम सबके लिए संपत्ति है। उन्होंने कहा कि मीडिया ने सूचना के प्रसार, लोगों को शिक्षित करने और सरकार के काम पर आलोचनात्मक नजर रखने में अच्छी भूमिका निभाई है।

सिंह ने कहा कि मीडिया के आकार में वृद्धि हुई है और यह विकसित हुआ है लेकिन इसमें कुछ ‘भटकाव’ भी आए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन अच्छी बात यह है कि इन भटकावों पर भी चर्चा एवं विचार-विमर्श हो रहे हैं। मीडिया को खुद ही अपनी खामियों को हटाने के तरीके का पता लगाना है।’’ मलयाला मनोरमा समूह को बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि यह उस अच्छी पत्रकारिता का बेहतरीन उदाहरण है जिसने दुनिया भर में लाखों लोगों को सूचित और शिक्षित करने के साथ ही उनका मनोरंजन भी किया।

इस मौके पर रक्षा मंत्री ए.के. एंटनी ने कहा कि देश में ‘‘पारदर्शिता क्रांति’’ हो रही है। उन्होंने कहा कि नागरिकों की ओर से मीडिया ने प्रभावी तरीके से उत्तर मांग कर पारदर्शिता की मांग को बल प्रदान किया है। एंटनी ने कहा कि जरूरत और अनिवार्यता है कि यह क्रांति देश के सभी संस्थानों तक पहुंचे। मलयाला मनोरमा के मुख्य सम्पादक मैमन मैथ्यू ने कहा कि समूह की स्थापना आजादी के पहले के दौर में की गई थी जब इसने सामाजिक न्याय और राष्ट्रीय मुद्दों का समर्थन किया था।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You