शादी करवाओ, कुंवारों का वोट पाओ

  • शादी करवाओ, कुंवारों का वोट पाओ
You Are HereHaryana
Saturday, March 15, 2014-2:49 PM

चंडीगढ़: लड़कियों की कमी की समस्या से जूझ रहे हरियाणा के युवकों ने लोकसभा चुनावों में उम्मीदवारों के सामने एक अनोखी मांग रखने का फैसला किया है। लड़कियों की कमी के कारण प्रदेश में ऐसे युवकों की एक बड़ी फौज पैदा हो गई है, जिनकी लम्बे समय से शादियां नहीं हो रहीं। प्रदेश में लिंगानुपात की स्थिति काफी खराब है। यहां प्रति एक हजार पुरुषों पर मात्र 877 महिलाएं हैं। इन कुंवारों ने औपचारिक रूप से ‘रांडा यूनियन’ बना ली है और इनका नारा है कि-बहू दिलाओ, वोट पाओ। कन्या भ्रूण-हत्या के कारण राज्य में लिंगानुपात की गंभीर समस्या है।

जींद के बीबीपुर गांव के सरपंच सुनील जागलान का कहना है कि जब उम्मीदवार उनके वोट मांगने आएंगे तो वे उनके सामने यही मांग रखेंगे। बहू दिलाओ, वोट पाओ नारे की शुरूआत जींद में 2009 में बनाई गई कुंवारा यूनियन ने की थी, जिसका गठन पवन कुमार ने किया था। जागलान का कहना था कि सरकार सिर्फ कन्या भ्रूण-हत्या रोकने के लिए ही काम न करे, बल्कि नौजवानों के लिए रोजगार की व्यवस्था भी करे, क्योंकि शादियां न होने का एक कारण ये भी है कि नौजवानों के पास रोजगार नहीं हैं। 

कलायत से इनैलो के विधायक रामपाल माजरा का कहना है कि चुनाव प्रचार शुरू हो जाने के बाद हमें इस मुद्दे से जूझना पड़ेगा। उनका कहना था कि सरकार को चाहिए कि वह ज्यादा से ज्यादा रोजगार पैदा करे, ताकि समस्या पर काबू पाया जा सके। यमुनानगर के रेड क्रास सोसाइटी के सचिव श्याम सुन्दर के अनुसार हरियाणा के सात हजार गांवों में से हर एक में 150-200 नौजवान ऐसे हैं जो 25 साल या उससे ज्यादा उम्र के हो चुके हैं लेकिन उनकी शादियां नहीं हो रहीं जबकि प्रदेश में 21 वर्ष की आयु शादी की सही उम्र मानी जाती है। उनके अनुसार वर्ष 2010 में 92 गांव ऐसे थे, जिनमें 25-29 आयु वर्ग में 13.5 फीसदी नौजवान अविवाहित थे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You