विधवाओं ने तोड़े कुरीतियों के बंधन

  • विधवाओं ने तोड़े कुरीतियों के बंधन
You Are HereNational
Saturday, March 15, 2014-9:34 AM

मथुरा: भगवन कृष्ण की लीलास्थली वृंदावन में यहां निवास करने वाली विभिन्न प्रदेशों की विधवाओं ने सदियों से चली आ रही कुरीतियों को तोड़ते हुए पहली बार अबीर-गुलाल से रंग भरी होली खेली। बुजुर्ग महिलाएं, विधवाएं एवं परित्यक्त महिलाओं में से ही कुछ एक ने राधा-कृष्ण तथा गोपियों के रूप धर कर एक-दूसरे से जम कर होली खेली। इस कार्यक्रम में इन महिलाओं ने करीब अढ़ाई क्विंटल गुलाल व 4 सौ किलो फूलों की वर्षा कर अपनी प्रसन्नता प्रकट की।

यह संभवत: पहला मौका था जब इन महिलाओं का उल्लास फूटा पड़ रहा था। उनको यह अवसर गैर-सरकारी संगठन सुलभ इंटरनैशनल ने उपलब्ध कराया था। इस संगठन ने वृंदावन की 1000 विधवाओं के जीवन-स्तर में सुधार के लिए न केवल तमाम उपाय किए हैं, बल्कि उन्हें समाज की मुख्यधारा में शामिल करने के लिए भी तमाम प्रयास किए हैं।

इस मौके पर सुलभ इंटरनैशनल के प्रमुख डा. बिंदेश्वरी पाठक ने कहा कि उन्होंने विधवा एवं समाज द्वारा परित्यक्त महिलाओं को भी सामान्य जीवन व्यतीत करने का मौका देने के लिए होली के इस कार्यक्रम का आयोजन किया है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You