संघ प्रचारकों को सोशल मीडिया में नमो गुणगान बंद करने के आदेश

  • संघ प्रचारकों को सोशल मीडिया में नमो गुणगान बंद करने के आदेश
You Are HereNational
Saturday, March 15, 2014-10:34 AM

जालंधर: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तरफ से यह कहे जाने कि संघ का काम नमो-नमो जपना नहीं है, के बाद संघ में इस जाप को बंद करने के लिए भी काम आरम्भ हो गया है। खासकर सोशल साइट्स पर संघ के प्रचारकों की तरफ से इस मामले में की जा रही मनमानी को लेकर संघ में उच्च पदाधिकारी काफी नाराज हैं। यही कारण है कि संघ के राष्ट्रीय नेता सुरेश भैया जी जोशी का पारा 7वें आसमान पर था जब वह संघ के आई.टी. सैल की बैठक ले रहे थे। 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बेंगलूरतथा हैदराबाद में संघ के आई.टी. विभाग की 2 बैठकें हुईं जिनमें भैया जी जोशी का जोश देखने लायक था। अक्सर वह संयम में रहते हैं तथा उनकी छवि काफी ठहरे पदाधिकारी के तौर पर देखी जाती है लेकिन उक्त 2 बैठकों में उन्होंने युवा प्रचारकों की अच्छी क्लास ली।

जानकारों का कहना है कि फेसबुक तथा ट्विटर पर संघ के कई युवा प्रचारकों ने प्रोफाइल पिक्चर के तौर पर एम.एस. गोलवलकर (गुरु जी) तथा डा. हैडगेवार की फोटो लगा रखी हैं जिन्हें लेकर भैया जी ने कड़ा एतराज जताया।

उन्होंने कहा कि इस प्रोफाइल पिक्चर के साथ युवा प्रचारक अन्य मामलों में कमैंट करते हैं जो कि उचित नहीं है। भैया जी जोशी इस बात को लेकर भी खफा थे कि संघ प्रचारक दिन भर फेसबुक या ट्विटर पर नरेंद्र मोदी के बारे में या फिर मोदी विरोधी काम कर रहे लोगों पर कमैंट करते रहते हैं।

 इसके साथ ही संघ की गतिविधियों को भी सार्वजनिक किया जाता है। इस बात को लेकर उन्होंने कड़ा एतराज जताया। सूत्र बताते हैं कि फेसबुक पर गुरु जी के नाम पर एक पेज बनाए जाने को लेकर तो भैया जी जोशी काफी गुस्से में दिखे।

उन्होंने पहले तो बहुत शालीनता से पूछा, ‘‘यह पेज किसने बनाया?’’ जब एक प्रचारक ने खुद को इस पेज का सूत्रधार बताया तो भैया जी जोशी ने सीधा ही पूछ डाला, ‘‘यह पेज बनाने के लिए किसने कहा था। किसकी अनुमति से यह पेज बनाया गया?’’

सूत्रों का कहना है कि उक्त बैठक के तुरंत बाद गुरु जी से संबंधित पेज को हटाकर संघ का ऑफिशियल पेज बनाया गया जिस पर संगठन की नीतियों के अतिरिक्त कुछ अन्य पोस्ट करने की अनुमति नहीं दी गई है। खासकर भाजपा या नमो-नमो न करने के लिए इस पेज के आयोजकों को खास हिदायतें जारी की गई हैं। जानकारी तो यह भी मिली है कि संघ के प्रचारकों को फेसबुक पर संघ के अतिरिक्त अन्य मसलों पर अधिक दखल देने से मना किया गया है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You