बढ़ेगी वक्फ बोर्ड की आमदनी

  • बढ़ेगी वक्फ बोर्ड की आमदनी
You Are HereRajasthan
Sunday, March 16, 2014-10:23 PM

नई दिल्ली  (वसीम सैफी): राजधानी दिल्ली में वक्फ की करीब 600 संपत्तियों पर कथित रूप से अवैध कब्जे हैं। विभाग के पास मौजूदा संपत्तियों से आय के स्रोत बेहद कम हैं। ऊपर से विभाग की आमद कम और खर्चे ज्यादा हैं। ऐसे में विभाग पर आर्थिक संकट के बादल छाय हुए हैं। सुत्रों की माने तो यह संकट के बाद जल्द ही छटने वाले हैं। हाल ही में दिल्ली में वक्फ की 123 संपत्तियों को डी-नोटिफिकेडिट किया गया है। यह संपत्तियां दिल्ली वक्फ बोर्ड को वापस मिल जाएंगी। इनसे होने वाली आमद का पैसा वक्फ को पहुंचेगा।

दिल्ली वक्फ बोर्ड के एक अधिकारी के अनुसार मौजूदा समय में विभाग की आय लगभग 22 लाख रुपए महीना और खर्चे लगभग 45 लाख रुपए महीना है। उन्होंने बताया कि वक्फ की आय का मुख्य स्रोत वक्फ की संपत्तियों पर बने मकानों व दुकानों से आने वाला किराया है। इसके अलावा कुछ पैसा चंदा के रूप में आता है। दिल्ली सरकार भी साल में एक मुस्त में विभाग को अनुदान देती है। अनुदान की राशि 25 लाख से एक करोड़ रुपए तक होती है। लेकिन इस साल तो विभाग को कुछ भी नहीं मिला है।

दिल्ली वक्फ बोर्ड के एक अधिकारी खुर्शीद आलम फारुखी ने बताया कि दिल्ली वक्फ बोर्ड को उसकी 123 संपत्तियां जल्द ही वापस मिल जाएंगी। उम्मीद है कि भविष्य में इन संपत्तियों से आने वाली आय से विभाग के आर्थिक हालात कुछ बेहतर होंगे। फारुखी ने बताया कि दिल्ली में डीडीए एलएनडीओ के पास वक्फ की करीब 123 संपत्तियां थीं। सन् 1984 से इन संपत्तियों को वापस लेने के लिए कोर्ट में मामला चल रहा था। किन्तु एक संगठन ने हाई कोर्ट में याचिका दायर कर कहा कि सरकार इन संपत्तियों को वक्फ को न दे।

इसके बाद इस पर स्टे लग गया। लेकिन पिछल साल ही हाई कोर्ट ने इस मामले से स्टे खत्म कर सरकार को आदेश दिया कि वह ऐसी पॉलिसी लाए जिससे यह संपत्तियां वापस वक्फ बोर्ड को मिल सकें। उन्होंने बताया कि वक्फ को संपत्तियां वापस मिलने के बाद विभाग के आर्थिक हालात कुछ बेहतर होंगे।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You