Subscribe Now!

होली के मौके पर 13 हजार से ज्यादा लोगों का काटा चालान

  • होली के मौके पर 13 हजार से ज्यादा लोगों का काटा चालान
You Are HereNational
Tuesday, March 18, 2014-9:02 PM

नई दिल्ली : होली के मौके पर ट्रैफिक पुलिस की समझदारी व सुरक्षा के पुख्ता व्यवस्था के कारण वर्ष 2007 के बाद पहली बार 2014 में सड़क हादसे में सबसे कम मौत हुई। इस वर्ष पूरे दिल्ली होली के मौके पर सिर्फ पांच सड़क हादसे हुए। जिसमें छह लोगों की मौत हो गई। जबकि 2014 में सड़क हादसे में करीब 14 लोगों की जाने गई थी। 2012 में 13, 2011 में 11,2010 में 15 जबकि 2006 में 20 सड़क हादसों में 22 लोगों की मौत हो गई थी।

 होली के मौके पर दिल्ली पुलिस ने शराब पीकर वाहन चलाने व हुडदंग करने वालों पर नजर रखने के लिए यातायात पुलिस,पीसीआर, और लोकल पुलिस की करीब 200 टीमें सड़क पर उतार रखी थी। यातायात पुलिस ने ड्रक ड्राइव,ओवर स्पीड, रिस्की ड्राइविंग, जिग जैग ड्राइविंग, डेंजर ड्राइविंग, रेड लाइट जंप करने वाले, ट्रिपल ड्राइविंग करने वाले,माइनर ड्राइविंग करने वाले और बिना हेल्मेट पहने गाड़ी चालने वाले व हुड़दंग करने वाले करीब 13 हजार से ज्यादा लोगों का चालान काटा गया। 

यातायात पुलिस के एडिशनल सीपी अनिल शुक्ला ने बताया कि हर टीम एक किलोमीटर पर यातायात पुलिस के जवान तैनात थे। इस बार कुल 13 हजार 15 लोगों का चालान काटा गया। जबकि गत वर्ष होली पर 10 हजार 339 चालान किए गए थे। इनमें 3914 बिना हेलमेट, 1819 रेड लाइट जंप करना, 973 ट्रिपल राइडिंग, 124 खतरनाक ढंग से वाहन चलाने और 1278 शराबी शामिल थे।

 इस वर्ष 2090 ड्रंक ड्राइविंग करने वालों का चालान काटा गया। इसमें 643 गाडिय़ों के मालिक है। वहीं,4 भारी गाड़ी के चालक, 29 बड़े वाहन, 3 ग्रामीण सेवा, 212 कार व जिप,1112 बाइक, 42 टीसीआर, 34 टैक्सी, 8 डिलीवरी वैन जबकि 3 अन्य वाहनों के चालान काटे गए। जबकि 881 लोगों की गाडिय़ां जब्त की गई। वहीं 1544 लोगों को रेड लाइट जंप करने,385 लोगों का गलत साइड में वाहन चालाने, 139 लोगों का डेंजर ड्राइविंग, 249 लोगों को ओवर स्पीड, 1464 लोगों को ट्रिपल ड्राइविंग, 5633 लोगों को बिना हेल्मेट,780 लोगों को बिना सीट बेल्ट,2010 लोगों को वन वे में तथा बिना लाइसेंस के वाहन चलाने वाले 25 लोगों का चालान काटा गया। इसके अलावा 491 लोगों को जेल भी हवा करने खाना पड़ा।

शुक्ला के मुताबिक होली के त्यौहार पर रंग में भंग डालने वालों की कमी नहीं रहती। कुछ लोग शराब पीकर अपना जीवन तो खतरे में डालते ही है, साथ ही सड़क पर चलने वाले लोगों को भी इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है। इसलिए इस साल ट्रैफिक पुलिस ने पुख्ता इंतजाम कर रखा था। पुलिस ने ऐसे जगहों को चिन्हित कर लिया है जहां ऐसे केस ज्यादा आते है। 
 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You