हर्षवर्धन के आने से चांदनी चौक की संसदीय सीट बनी 'हॉट सीट'!

  • हर्षवर्धन के आने से चांदनी चौक की संसदीय सीट बनी 'हॉट सीट'!
You Are HereNcr
Wednesday, March 19, 2014-2:55 PM
नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के 272 प्लस मिशन के तहत दिल्ली के चांदनी चौक से भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष हर्षवर्धन को उतारे जाने से यह संसदीय सीट देश की हॉट सीटों में शामिल हो गई है।
 
इस सीट पर प्रमुख राजनीतिक दलों कांग्रेस, भाजपा और आम आदमी पार्टी (आप) के उम्मीदवार घोषित किए जा चुके हैं। तीनों दलों के उम्मीदवारों की घोषणा के बाद इस सीट पर त्रिकोणीय और बहुत रोचक मुकाबला होने की उम्मीद है।
 
कांग्रेस ने इस सीट से कपिल सिब्बल को फिर से मैदान में उतारा है। दूरसंचार मंत्री सिब्बल ने 2004 और 2009 के चुनाव में यहां कांग्रेस का परचम लहराया था। किंतु इस बार उनको डॉ. हर्षवर्धन के साथ-साथ आप के उम्मीदवार पत्रकार से नेता बने आशुतोष से कड़ी टक्कर मिलने की संभावना है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने नरेंद्र पांडेय को टिकट दिया है।

पिछले साल हुए विधानसभा के चुनाव ने आप ने इस संसदीय सीट के तहत आने वाली दस विधानसभा सीटों में से चार शालीमार बाग शकूर बस्ती, माडल टाउन और सदर बाजार पर जीत हासिल की थी। भाजपा के खाते में आदर्श नगर त्रिनगर और वजीरपुर सीटें आई थी। कांग्रेस चांदनी चौक और बल्लीमारीन पर तथा जनता दल यू मटिया महल पर विजयी हुई थी।
 
वर्ष 1956 में यह संसदीय सीट अस्तित्व में आई और 1957 में हुए पहले आम चुनाव में कांग्रेस के राधारमण ने जीत हासिल की। 1962 के चुनाव में कांग्रेस के ही शाम नाम विजयी हुई, किंतु 1967 में जनसंघ के राम गोपाल शालवाले इस पर विजयी हुए।
  
आपातकाल के बाद 1977 के चुनाव में जनता पार्टी के सिंकदर बख्त इस सीट पर जीते। इसके बाद कांग्रेस ने 1980 से 1989 तक के तीन चुनावों में जीत हासिल की।
 
डॉ. हर्षवर्धन की छवि सौम्य, मधुर, ईमानदार और सबको साथ लेकर चलने वाले नेता की है। वैसे तो डॉ. हर्षवर्धन का राजनीतिक कर्म क्षेत्र पूर्वी दिल्ली का इलाका है। वह पूर्वी दिल्ली संसदीय क्षेत्र के कृष्णा नगर से पांच बार विधायक चुने गए हैं। 
      
दो बार से इस संसदीय सीट से जीत रहे सिब्बल पिछले दस साल से केन्द्र में मंत्री हैं। जाने माने वकील सिब्बल अपनी बेबाकी के लिए खूब जाने जाते हैं।
   
आप की तरफ से आशुतोष की उम्मीदवारी की घोषणा को करीब एक महीना बीत चुका है और वह पूरे जोश खरोश के साथ इलाके में प्रचार में जुटे हुए हैं। आशुतोष आप के मुख्य प्रवक्ता के रुप में मुखर रहे हैं और भाजपा और कांग्रेस पर हमला करने का कोई मौका नहीं चूकते हैं।
  
यह संसदीय सीट दिल्ली की सातों लोकसभा सीटों में इलाके के लिहाज से तो सबसे छोटी है ही। यहां मतदाता भी सबसे कम हैं । कुल 13 लाख 92 हजार 395 मतदाताओं में सात लाख 61 हजार 364 पुरुष ओर छह लाख 30 हजार 980 महिला मतदाता हैं।
 
पिछले चुनाव में कपिल सिब्बल ने कुल पडे सात लाख 80 हजार 445 मतों में से 59.67 प्रतिशत अर्थात चार लाख 65 हजार 713 मत हासिल कर भाजपा के विजेंद्र गुप्ता को करारी शिकस्त दी थी। गुप्ता को 33.96 प्रतिशत अर्थात दो लाख 62 हजार तीन मत मिले थे। बसपा के मोहम्मद मुस्तकीम को 26 हजार 486 मत मिले थे। अन्य को दो लाख 710 मत मिले थे।
    
   
    
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You