UP: मोदी-मुलायम के आने से रोचक हुई पूर्वांचल की जंग

  • UP: मोदी-मुलायम के आने से रोचक हुई पूर्वांचल की जंग
You Are HereNational
Wednesday, March 19, 2014-7:12 PM

गाजीपुर/वाराणसी: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने नरेंद्र मोदी को वाराणसी संसदीय सीट से उम्मीदवार बनाकर पूर्वांचल की माटी में गरमी पैदा कर दी है और रही सही कसर समाजवादी पार्टी (सपा) के मुखिया मुलायम सिंह ने बनारस से ही सटे आजमगढ़ लोकसभा सीट से उम्मीदवार बनकर पूरी कर दी है। राजनीति के धुरंधर माने जाने वाले दोनों खिलाडिय़ों के रण कौशल की परख इस बार पूर्वांचल की धरती पर ही हो जाएगी।

भाजपा के वरिष्ठ नेता रहे डा. मुरली मनोहर जोशी पिछले चुनाव में बनारस में लगभग 17 हजार मतों के अंतर से जीते थे और उन्होंने पूर्वांचल के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को हराया था। भाजपा ने इस बार बनारस सीट से मोदी को चुना है।

पार्टी नेताओं का मत है कि बनारस से मोदी के लडऩे की स्थिति में पूर्वांचल की करीब आधा दर्जन सीटों चंदौली, गाजीपुर, बलिया, आजमगढ़, जौनपुर, मिर्जापुर, भदोही सहित आधा दर्जन से ज्यादा सीटों पर इसका असर पड़ेगा और कभी भाजपा को सबसे अधिक सीटें देने वाला पूर्वांचल एक बार फिर मोदी के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

मोदी और भाजपा की इसी रणनीति को देखते हुए सपा ने भी मुलायम सिंह को बनारस के बजाय आजमगढ़ लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतार दिया है। मुलायम इस बार दो जगहों मैनपुरी और आजमगढ़ से चुनाव लड़ेंगे।

मोदी के आने के बाद बनारस में स्थितियां भाजपा के हक में है तो आजमगढ़ से मुलायम के मैदान में उतरने के बाद अब भाजपा को यह सीट बचा पाना काफी मुश्किल होगा। भाजपा के रमाकांत यादव पिछली बार भी यहां से सांसद चुने गए थे और इस बार भी भाजपा ने उन पर ही भरोसा जताया है।

आजमगढ़ से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार इम्तियाज अहमद गाजी ने कहा कि मुलायम के आने से समीकरण बदल जाएगा। मुस्लिम समाज हालांकि सपा के रवैये से नाराज तो है लेकिन व्यक्तिगत तौर पर मुलायम की छवि मुसलमानों के बीच अच्छी है और इसी का फायदा उन्हें मिलेगा।

गाजी बताते हैं कि मुलायम के अलावा अगर कोई दूसरा नेता होता तो रमाकांत यादव की स्थिति को मजबूत कहा जा सकता था लेकिन उनके आने के बाद यादव समुदाय के लोग किस हद तक रमाकांत को वोट करते हैं यह भी देखना रोचक होगा।

आजमगढ़ को मुस्लिम बाहुल्य इलाका माना जाता है और शायद इसी रणनीति पर चलते हुए सपा ने यह दांव खेला है। सपा एक ही तीर से कई निशाने साधना चाहती है। मुलायम के उतरने से पूर्वांचल में सपा को लेकर एक माहौल भी बनेगा और यादव और मुस्लिम मतों का ध्रुवीकरण हो गया तो सपा भाजपा के किले में सेंधमारी करने में भी कामयाब हो सकती है।

गाजी कहते हैं, ‘‘यहां करीब 50 फीसदी दलित मतदान नहीं कर पाते हैं। इसके उलट जिले में यादव मतदाताओं की संख्या करीब ढाई लाख है जबकि मुस्लिमों का दो लाख के आसपास है और जाहिर सी बात है कि मुलायम के आने के बाद इन दोनों जातियों का गठजोड़ देखने को मिल सकता है।’’

इस बीच, सपा के प्रदेश महासचिव डा. सी. पी. राय ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि मुलायम के मैदान में उतरने के बाद आजमगढ़ संसदीय सीट से 100 फीसदी जीत की गारंटी है और इसके अलावा अगल-बगल की कुछ सीटों पर भी इसका असर पड़ेगा।

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा, ‘‘मोदी के आने के बाद सपा में बेचैनी छाई हुई है। पूर्वांचल से सपा के करीब 8 मंत्री हैं। बावजूद इसके मुलायम को खुद वहां जाकर लडऩा पड़ रहा है इससे सपा और मुलायम की झुंझलाहट को समझा जा सकता है।’’

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You