मुजफ्फरनगर में BJP की BSP से टक्कर

  • मुजफ्फरनगर में BJP की BSP से टक्कर
You Are HerePolitics
Wednesday, March 19, 2014-6:54 PM

मुजफ्फरनगर(राकेश): वेस्ट यूपी में दंगों के कारण चर्चा में आए मुजफ्फननगर की लोकसभा सीट पर बीजेपी से बीएसपी की टक्कर बताई गई। दंगों के आरोपी और मौजूदा सांसद कादिर राना ने बसपा से फिर अपना नामांकन आज दाखिल किया है।

राजनीति जानकारों के मुताबिक इनका मुकाबला भाजपा के घोषित प्रत्याशी डा. संजीव बालियान माना जा रहा है। हालांकि दोनों ही प्रत्याशी कानून की निगांह में सांप्रदायिक दंगों के दागदार रहकर हवालात की हवा खा चुके है। लेकिन इस लोकसभा में मुजफ्फरनगर, चरथावल, बुढ़ाना तथा खतौली तथा सरधना को मिलाकर 5 विधानसभाएं शामिल है।

 यहां पिछले 2012, विधानसभा के चुनाव में बीजेपी 3 विधान सभाओं में पहले तथा दूसरे नंबर रही थीं। मौजूदा विधायकों और मोदी लहर का लाभ राजनीति के जानकारों के मुताबिक बीजेपी को मिलने की संभावना जताई जा रही है। बीजेपी ने सरधना की विधानसभा से जहां जीती हासिल की वहीं वह चरथावल और मुजफ्फरनगर में दूसरे नंबर पर रही।

बीजेपी के संगीत सोम ने आरएलडी के हाजी याकूब को 12 हजार मतों से हराया। बीएसपी के सांसद कादिर का मुकाबला बीजेपी से रहेगा। बीएसपी की ताकत चरथावल विधानसभा से बीएसपी का मौजूदा विधायक उसका प्लस प्वांइट है। वहीं खतौली में बीएसपी दूसरे नंबर पर रहने की वजह से 2 विधानसभओं में आगे-पीछे है।

सपा ने इसकी 2 विधानसभाओं में जीत हासिल की है। मुजफ्फरनगर से चितरंजन स्वरूप और बुढ़ाना से नवाजिश आलम मौजूदा विधायक है। सपा के विधायक नवाजिश आलम ने आरएलडी के राजपाल बालियान को 10 हजार मतो से हराया। सपा का दखल बीसपी को नुक्सान पहुंचाएगा।

वहीं यहां आरएलडी का दखल भी है। इसका नुक्सान बीजेपी को होगा। आरएलडी का एक विधायक खतौली से जबकि बुढ़ाना और सरधना में आरएलडी दूसरे नंबर पर रही है। कांगे्रस और सपा का इनके मुकाबले यहां कोई वजूद नहीं है। इसलिए मुकाबला बीजेपी का बीएसपी से माना जा रहा है।
 

Edited by:Rakesh Tyagi
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You