IAS बनने वालों के लिए खुशखबरी!

  • IAS बनने वालों के लिए खुशखबरी!
You Are HereNational
Thursday, March 20, 2014-2:00 PM

लखनऊ: आईएएस की तैयारियों को लेकर उत्पन्न होने वाली समस्याओं का निराकरण अब प्रतियोगी घर बैठे एक फोन कॉल के जरिए कर सकते हैं। आईएएस कोचिंग की तैयारी करवाने वाली स्टेप-अप एक हेल्पलाइन शुरू करने जा रही है।

इस हेल्पलाइन के बारे में जानकारी देते हुए स्टेप-अप के डायरेक्टर अजय मिश्र ने बताया कि इस सुविधा के शुरू होने के साथ ही आईएएस की तैयारी करने वालों को काफी लाभ पहुंचेगा। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि आईएएस की तैयारी में सिर्फ स्कूली शिक्षा का ही योगदान नहीं होता है बल्कि किसी छात्र को अपने चारों तरफ के वातावरण के प्रति सजग और सचेत रहना पड़ता है।

उन्होंने कहा कि ज्यादातर छात्र और माता पिता इस बात के लिये ही निश्चित नहीं होते कि उनका बच्चा ग्रेजुऐशन के बाद क्या करेगा। कई बार अभिभावकों के कारण छात्रों में आईएएस बनने का सपना महज एक मजबूरी होती है, ऐसे में छात्र के अन्दर वह ऊर्जा नहीं होती, जो उसको सफल होने के लिए आवश्यक होती है और उसका नतीजा होता है छात्र की रुचि का लगातार घटना।

उन्होंने कहा कि किसी भी छात्र को अपने चारों तरफ के वातावरण के प्रति सजग रखने के लिए बचपन से ही बच्चों को न्यूज सुनने, न्यूज पेपर और मैगजीन आदि के प्रति रुचि जगाई जाती है। साथ ही उसकी हॉबी के प्रति भी माता पिता की विशेष रुचि रहनी चाहिए और ज्यादा रोकटोक के बजाय उनकी मानसिक दशा को समझने का प्रयत्न करना चाहिए। मिश्र ने कहा कि आईएएस बनने का संकल्प बच्चे का अपना होना चाहिए, यह किसी भी तरह की जबरदस्ती पर आधारित नहीं होता है।

आईएएस की तैयारी का फैसला स्कूली शिक्षा के समाप्त होने के साथ ही लिया जाना चाहिए तथा ग्रेजुएशन में वही विषय रखने चाहिए जो आपको आपकी मंजिल के करीब ले जाने में मदद करे। उन्होंने कहा कि ज्यादातर छात्रों को देखा गया है कि वे ग्रेजुएशन की समाप्ति तक अपने कॅरियर के प्रति पूर्णतया अनिश्चित होते हैं। परन्तु यदि किसी छात्र को स्कूली शिक्षा के समाप्त होने के साथ ही आईएएस की तैयारी के प्रति सजग कर दिया जाए तो उसके कई साल खराब होने से बच सकते हैं तथा वह ग्रेजुएशन की समाप्ति तक इस प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार हो जाता है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You