चुनावों पर मंडरा सकता है खतरा, नक्सलियों ने लूटी यूबीजीएल

  • चुनावों पर मंडरा सकता है खतरा, नक्सलियों ने लूटी यूबीजीएल
You Are HereNational
Thursday, March 20, 2014-3:48 PM

जगदलपुर: झीरम हमले में नक्सली 15 जवानों को मारकर 3 यूबीजीएल (अंडर बैरल ग्रेनेड लांचर) लूटकर ले गए थे। लोकसभा चुनाव से पहले चार यूबीजीएल जैसा घातक हथियार नक्सलियों के हाथ लग जाना सुरक्षाबलों के लिए एक तरह से खतरे की घंटी है। आपको बता दें कि इससे पहले बीते साल 27 नवंबर को बीजापुर के मुरकीनार में भी सीआरपीएफ की एक टुकड़ी पर हमला कर एक यूबीजीएल लूट लिया गया था। टू इंच मोर्टार और पहले के गे्रनेड राइफल के मुकाबले यह काफी कारगर हथियार है। क्योंकि इससे प्रक्षेपण के साथ ही सीधे निशाना साधकर भी गोला दागा जाता है। जबकि इससे पहले के लांचर से अंदाजे से ग्रेनेड ट्रान्जेट(प्रक्षेपित) किए जाते थे।

क्या है यूबीजीएल
यूबीजीएल असल में एक 25 सेमी लंबा लांचर है, जो एके 47 और इंसास राइफल की बैरल के नीचे लगाया जाता है। इससे एक मिनट में 5 से 7 गोले 400 मीटर की दूरी तक निशाना साधकर दागे जा सकते हैं। इसका वजन करीब डेढ़ किलो है।

कितना घातक है यह हथियार
-यूबीजीएल से 400 मीटर तक रात में भी निशाना साधकर गोला दागा जा सकता है।
-इसका एक ग्रेनेड टीन शेड या टेंट के एक बैरक और 4-6 ग्रेनेड थाना-चौकियों में तबाही मचाने के लिए काफी है।
-इसका गोला जहां गिरता है, वहां 8 मीटर तक के दायरे को तहस-नहस कर देता है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You