दंगों का जख्म कुरेदने की बजाए भूलना बेहतर: जयाप्रदा

  • दंगों का जख्म कुरेदने की बजाए भूलना बेहतर: जयाप्रदा
You Are HereNational
Thursday, March 20, 2014-8:13 PM

मुजफ्फरनगर(राकेश): यहां सांप्रदायिक दंगों का जख्म कुरेदने की बजाय भूलना बेहतर है। सिने स्टार और बिजनौर सीट से लोकसभा की प्रत्याशी जयाप्रदा यूपी में सपा की सरकार पर जमकर बरसी। सरकार को नाकाम बताते हुए कहा गया कि यूपी में बहू बेटियां अपने आप को असुरक्षित महसूस करती है। यहां चौधरी चरण सिंह सभागार में एक चुनावी दौरे के समय पत्रकारों एवं मतदाताओं से वार्ता कर रही थीं।

जयाप्रदा ने कहा कि सपा सरकार के आने के बाद विकास कार्य रूक गए है। भाई को भाई से लड़ाया जा रहा है। धर्म व जाति की राजनीति की जा रही है। लोगों में सरकार के प्रति विश्वास कम होने से असुरक्षा की भावना है। मुजफ्फरनगर के आसपास हुए दंगे दुखदाई है। ऐसा नहीं होना चाहिए यह दर्द न भूलने वाला है लेकिन इस तरह की घटनाओं को बार-बार उजागर नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि दंगों के चलते विकास कार्य एक दम ठप्प हो गये है और सरकार ने हिंदू, मुस्लिमों को आपस में बांट दिया है। वह दोनों समुदाय के बीच खोए भाई-चारे फिर से लाएंगी। उन्होंने यह भी कहा कि मैं पडौसी जनपद रामपुर से रही हूं। मेरे लिए बिजनौर या मुफ्फरनगर अन्जान क्षेत्र नहीं है। उन्होंने कहा कि सभी धर्मो का सम्मान किया जाना चाहिए।

जयप्रदा ने यह भी कहा कि उनके लिए फि ल्म व राजनीति दोनों ही चुनौती रही है और उन्होंने दोनों ही चुनौतियों को स्वीकार कर इन चुनौतियों पर काबू किया है। उन्होंने यह भी कहा कि रालोद-कांग्रेस गठबंधन प्रत्याशी कामयाब होंगे तथा केन्द्र में उनकी पार्टी के बिना कोई सरकार नहीं बनेगी। जयाप्रदा ने विकास के मुद्दे पर पूछे गये सवाल के जवाब में कह कि पूरे प्रदेश में एक ही तरह की समस्या है बिजनौर मेरे लिए नयी जगह नहीं है, यहां की सडके, पानी और बिजली अभी भी लोगों के लिए मुसीबत बनी हुई है।

Edited by:Rakesh Tyagi
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You