भारत में चुनाव का अध्ययन करेंगे 40 देशों के प्रतिनिधि

  • भारत में चुनाव का अध्ययन करेंगे 40 देशों के प्रतिनिधि
You Are HereNational
Friday, March 21, 2014-12:20 AM

नई दिल्ली: दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र कहे जाने वाले देश में अप्रैल-मई में होने जा रहे आम चुनाव को देखने के लिए अफ्रीका और लातिन अमेरिका के 40 देशों के प्रतिनिधि जुटेंगे। चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर आईएएनएस को बताया, ‘‘चार से पांच दलों में ये प्रतिनिधि कुछ राज्यों का दौरा करेंगे।’’

7 अप्रैल से 12 मई के बीच नौ चरणों में होने वाले मतदान में 81.4 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे। 28 राज्यों और सात केंद्रशासित प्रदेशों के लोग 545 सदस्यीय लोकसभा के 543 सदस्यों का चुनाव करेंगे। दो सदस्य एंग्लो-इंडियन समुदाय से मनोनीत किए जाते हैं। चुनाव आयोग के समन्वय में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) ने पिछले वर्ष विधानसभा चुनाव देखने के लिए अफ्रीका और मध्य पूर्व के आठ देशों के 24 प्रतिनिधियों को बुलाया था। प्रतिनिधियों ने भारत के इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में रुचि दिखाई।

दक्षिणी सूडान, जार्डन, जांबिया और गुएना बिसाऊ और इराक, लेबनान, नाइजीरिया और सेनेगल के प्रतिनिधियों ने मध्य प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली के चुनावों का जायजा लिया। यूएनडीपी के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, ‘‘लोकसभा चुनाव को लेकर हम निर्वाचन आयोग के संपर्क में हैं। हम 40 देशों के लिए अध्ययन ओर जानकारी मुहैया कराने के प्रति आशान्वित हैं। यह प्रक्रिया अभी चल रही है और इसके बारे हम आगे और सूचनाएं मुहैया कराएंगे।’’

उन्होंने कहा कि यूएनडीपी ने संक्रमण और नए लोकतांत्रिक देशों को सीखने का कार्यक्रम चला रखा है। इन देशों को भारत के चुनाव प्रबंधन के व्यापक अनुभव का अध्ययन करने की सुविधा दी जाती है। उन्होंने यह भी कहा कि वे लोग भारत के चुनाव प्रबंधन के बारे में जानकारी दुनियाभर के देशों से साझा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। निर्वाचन आयोग और यूएनडीपी ने चुनाव प्रबंधन के क्षेत्र में दक्षिण-दक्षिण सहयोग पर करार कर रखा है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You