पिघले पितामह, अड़े जसवंत

  • पिघले पितामह, अड़े जसवंत
You Are HereNational
Friday, March 21, 2014-10:49 AM

नई दिल्ली(सुनील पाण्डेय): 24 घंटे से अधिक समय तक चले राजनीतिक ड्रामे और मान-मनौव्वल के बाद आखिरकार बी.जे.पी. के ‘पितामह’ लाल कृष्ण अडवानी झुक गए। वह भी समूची पार्टी को झुकाने के बाद। वह गांधीनगर सीट से चुनाव लडऩे को राजी हो गए।

इसके साथ ही अडवानी के गांधीनगर की बजाय भोपाल से चुनाव लडऩे की इच्छा जताने से भाजपा में मचे हड़कंप का समाधान भी हो गया लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह भड़क उठे हैं। वह बगावत पर उतरने को तैयार हैं। उन्होंने पार्टी को धमकी दी है कि बाड़मेर से टिकट नहीं तो निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे।
 
वीरवार शाम अडवानी ने एक बयान जारी कर कहा कि वह गुजरात में गांधीनगर सीट से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे, जैसा कि कल भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति ने निर्णय किया था। मैं 1991 से लोकसभा में गांधीनगर चुनाव क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता आया हूं, मैंने निर्णय किया है कि आम चुनाव मैं गांधीनगर से ही लड़ूंगा। मैंने अपने इस निर्णय से पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह को अवगत करा दिया है।

उन्होंने बयान में कहा कि आज सुबह गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी भी मेरे निवास पर आए और इस बात पर जोर दिया कि गुजरात की जनता की इच्छा है कि एक बार फिर मैं गांधीनगर का लोकसभा में प्रतिनिधित्व करूं। पार्टी निर्णय को स्वीकार करने को मनाने के लिए कल और आज मोदी के अलावा सुषमा स्वराज, अरुण जेटली, एम. वेंकैया नायडु और नितिन गडकरी आदि ने उनसे भेंट की थी। अडवानी ने कहा कि ,अपनी पार्टी के सहयोगियों का यह भाव मुझे गहरे छू गया

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You