कारोबारियों पर गैंगस्टरों का कहर

  • कारोबारियों पर गैंगस्टरों का कहर
You Are HereNational
Friday, March 21, 2014-12:21 PM

नई दिल्ली : दिल्ली और एन.सी.आर. की जेलों में बंद गैंगस्टरों को छुड़ाने की कोशिशें शरवण-करतार मंडोती गैंग के साथी कर रहे हैं, जिनके निशाने पर दिल्ली और एन.सी.आर. के बड़े करोबारी और कैश वैन हैं। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने इसी गैंग के 4 बदमाशों को दबोचा है। आरोपियों की पहचान  राजेश उर्फ कर्मवीर, अजीत, विकास और मंजीत के रूप में हुई है।

 उनके कब्जे से 7.65 एम.एम. की 3 पिस्टल, 3 देसी कट्टे और 16 कारतूस समेत वारदात में इस्तेमाल टाटा सफारी बरामद की है।अपराध शाखा ने मार्च महीने में शरवण-करतार गैंग के कुछ साथियों को गिरफ्तार किया है। बुधवार को अपराध शाखा के उपायुक्त भीष्म सिंह और ए.सी.पी. पी.एस.मल्होत्रा की देखरेख में इंस्पैक्टर कुलदीप सिंह की टीम ने नजफगढ़ रोड पर घेराबंदी करके चारों को हथियारों के साथ गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ पर पता चला कि राजेश कारचैकिंग, हत्या की कोशिश, वसूली आदि के 22 वारदातों को अंजाम दे चुका है। वह 2 महीने पहले ही जेल से बाहर आया है।

 उसे कहा गया था कि वह जेल में बंद अपने साथियों को  छुड़ाने के लिए दिल्ली और एन.सी.आर. के बड़े कारोबारी और कैश वैन को निशाना बनाकर मोटी रकम हासिल करे। इसके लिए राजेश अपने तीनों साथियों के साथ बाहरी दिल्ली में किसी को निशाना बनाने के लिए निकला था।

गैंग की काफी समय से नीरज बावानिया और उसके  मामा काला से दुश्मनी है। उसने गैंग के कई बड़े साथियों को मारा है। गैंग नीरज से ऊपर उठना चाहता था, लेकिन नीरज उसके साथियों को मारकर खुद को ऊपर दिखाता रहता है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You