आजादी के 65 साल बाद भी गरीबों का विकास नहीं हुआ: मायावती

  • आजादी के 65 साल बाद भी गरीबों का विकास नहीं हुआ: मायावती
You Are HereUttar Pradesh
Sunday, March 23, 2014-7:24 PM

भुवनेश्वर: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने आज धर्मांतरण की आलोचना की और कमजोर वर्गों, दलितों और आदिवासियों से अपील की कि वे अपने धर्म की बजाय सरकार बदलें। मायावती ने यहां एक जनसभा में कहा, ‘‘मैं समझती हूं कि भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के लोग ओडि़शा के सुदूर इलाकों का दौरा करते हैं और आदिवासियों एवं दलितों को यह झांसा देकर उन्हें धर्म परिर्वतन के लिए राजी करते हैं कि ऐसा करने से उनके जीवनस्तर में सुधार होगा। मैं आपसे कहती हूं कि आप अपना धर्म नहीं बल्कि राज्य और केंद्र की सरकार बदलें।’’

ओडि़शा की 50 फीसदी आबादी आदिवासियों और दलितों के होने का जिक्र करते हुए मायावती ने कहा कि आजादी के 65 साल बाद भी गरीबों का विकास नहीं हुआ है । उन्होंने अपने भाषण में सवर्ण वर्ग के गरीबों के दुख-दर्द पर भी चिंता जताई। कांग्रेस की अगुवाई वाली संप्रग सरकार और भाजपा की अगुवाई वाली पिछली राजग सरकार, दोनों की आर्थिक नीतियों की आलोचना करते हुए मायावती ने कहा, ‘‘विदेशी बैंकों में जहां बड़े पैमाने पर काला धन रखा हुआ है, वहीं न तो कांग्रेस ने और न भाजपा ने उसे वापस लाने की कोई कोशिश की।’’
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You