जानिए कैसे भूतों के साय में जी रहा है एक गांव!

  • जानिए कैसे भूतों के साय में जी रहा है एक गांव!
You Are HereNational
Monday, March 24, 2014-4:21 PM

महाराष्ट्र: कभी-कभी मनुष्य सोचता है कि भूत-प्रेत सच में होते हैं। क्या यह उन मनुष्यों की आत्माएं ही हैं जो मरने के बाद भी भटकतीं रहती हैं या वास्तव में भूत ही होते हैं। इसका जवाब मिलना कठिन है। कहते हैं यदि भूतों को कोई व्यक्ति मिल जाए तो भूत उसके शरीर पर कब्ज़ा कर लेते हैं और उससे अपनी मर्जी का काम करवाते हैं। भूत-प्रेत की अपनी एक अलग ही दुनिया होती है। कभी-कभी यह अपनी दुनिया से निकल कर जब मनुष्यों की दुनिया में आ जाते हैं तो मनुष्य की परेशानियां बढ़ जातीं हैं।

जी हां यह सत्य है। यह बात है महाराष्ट्र के एक छोटे से गांव की। इस गांव का नाम है मालवान, जहां हर साल तीन दिनों तक यह गांव भूत-प्रेत के कब्ज़े में होता है। भूतों के तीन दिन तक यहां टिके रहने का आलम यह है कि गांव में रहने वाले लोग कहीं ओर चले जाते हैं या घर के दरवाज़े-खिड़कियां बंद कर कर तंत्र-मंत्र का सहारा ले कर घर में बंद रहते हैं।

इन भूत-प्रेत के इस गांव में भटकने के पीछे एक कहानी है। कहते हैं सालों पहले यहां एक राजा हुआ करता था। एक दिन इस राजा ने मालवान के सरपंच की बेटी को देखा और उसके रूप का दीवाना हो गया। राजा ने अपने सिपाहियों को सरपंच की बेटी को ले कर आने के लिए कहा। गांव वाले राजा के इस व्यवहार से नाराज़ हो गए और उन्होंने इस तरह करने से इंकार कर दिया। जिसके बाद राजा के सिपाहियों और गांव वालों में युद्ध छिड़ गया, जो कि 3 दिनों तक चला। इस युद्ध में राजा के कई सिपाही और गांव वाले मारे गए। इसके बाद से हर साल 3 दिनों में मरे हुए गांव वाले और सिपाहियों की आत्माओं के दरमियान युद्ध होता है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You