मैं बदले की राजनीति नहीं करता: वीरभद्र

  • मैं बदले की राजनीति नहीं करता: वीरभद्र
You Are HereNational
Tuesday, March 25, 2014-5:40 PM

सोलन(अमित): मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि पूर्व विधायक मेजर विजय सिंह मनकोटिया दलबदलू नहीं है। उन्होंने कहा कि वे सिद्धांतवादी है और ऐसा नहीं है कि वे पाला या पार्टी बदल लेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी ने संगठन व सरकार स्तर पर जिस किसी को भी ओहदे दिए है। उनकी प्रोफॉमेंस चुनावों में देखी जाएगी और इसका परिणामों के बाद कड़ा संज्ञान भी लिया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि जब प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी है, तब तब मेरे खिलाफ झूठे मामले दर्ज करवाए गए। मैने सभी मामलों में सैशन ट्रायल फेस किया, लेकिन मैं ऐसी बदले की राजनीति नहीं करता हूं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में भी जिन भी मामलों की जांच चल रही है, वे पूर्व भाजपा सरकार के कार्यकाल में कांग्रेस के विधायकों द्वारा तैयार की गई चार्जशीट में बताए गए है। चार्जशीट जब तैयार हुई थी, उस समय वे केंद्र में मंत्री थे। उन्होंने पूर्व सरकार के मामलों की करवाई जा रहे जांच पर शायराना अंदाज में टिप्पणी की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वो कत्ल भी कर दे तो चर्चा तक नहीं होता और हम आह भी भरें तो हो जाते हैं बदनाम। सोलन के बडोग में पत्रकार वार्ता के दौरान उन्होंने कहा कि वे इन दिनों चुनावी दौरे पर है और जल्द ही प्रदेश का दौरा पूरा करेंगे। श्री सिंह ने कहा कि उनका काम पार्टी की चारों सीटों का जीताना है। उन्होंने भाजपा प्रत्याशी वीरेंद्र कश्यप के सी.डी. मामले में कहा कि यह मामला फेक नहीं है। सब कुछ कैमरे में दिख रहा है और यहीं सबसे बड़ा एविडेंस है। उन्होंने कहा कि कश्यप को नैतिकता के आधार पर अपने पद से इस्तीफा देकर चुनाव लडऩे से भी पीछे हटना चाहिए। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें यह भी पता है कि भाजपा के नेताओं में ऐसी नैतिकता नहीं है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यदि पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल मंडी से चुनाव लड़ेंगे तो उनका स्वागत किया जाएगा और वे उनकी चुनौती को स्वीकार भी करेंगे।

उन्होंंने यह भी कहा कि किसी भी मामले की जांच के लिए केंद्र के किसी भी नेता का उनके ऊपर कोई भी दबाव नहीं है। चार्जशीट जो राष्ट्रपति को दी गई थी उसकी के आधार पर सभी मामलों की जांच चल रही है। एच.पी.सी.ए. को दी गई जमीन के मामले में उन्होंने कहा कि जमीन सोसयटी को दी गई थी न की कंपनी को। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश की रणजी की टीम में हिमाचल के नहीं बल्कि पंजाब के खिलाडिय़ों को खिलाया गया है। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा कि मार्केटिंग बोर्ड यदि दुकानों के आवंटन में पूर्व भाजपा सरकार के कार्यकाल में कानून को ताक पर रखकर दुकानें दी गई है, तो इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने मंडी समिति के अध्यक्ष रमेश ठाकुर को इस मामले की जांच करवाने के आदेश भी दिए। उन्होंने कहा कि नियमों को ताक पर रखकर कोई कार्य सहन नहीं होगा। उन्होंने यह भी कहा कि अवैध निर्माण पर भी शिकंजा कसना जरूरी है। सोलन के एक बिल्डर द्वारा शहर में अवैध तौर पर बनाए गए भवन को लेकर उन्होंने कहा कि इसकी अवैध मंजिलें तोड़ी जाएगी और अवैध निर्माण करने वालों पर निर्माण की कीमत के साथ साथ करीब 3 प्रतिशत जुर्माना ठोका जा सकता है।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You