कैसे बीत रही है वाजपेयी की जिंदगी

  • कैसे बीत रही है वाजपेयी की जिंदगी
You Are HereNational
Thursday, March 27, 2014-8:50 AM
नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जिंदगी कैसे बीत रही है, इसका आकलन उनके एक सहयोगी एन.एम. घटाटे ने इस तरह किया। उनके अनुसार भाजपा के अशोक रोड स्थित मुख्यालय से 5 मिनट से भी कम समय लगता है अटल बिहारी वाजपेयी के कृष्ण मेनन मार्ग बंगले तक पहुंचने में। एस.पी.जी. सुरक्षा से लैस वाजपेयी व्हील चेयर पर बैठे टी.वी. देखते हैं और समाचार पत्रों की सुर्खियां पढ़ते हैं। वाजपेयी 2009 में 'स्ट्रोक' का हमला होने के बाद मौन हो गए। वह टी.वी. और समाचार पत्रों से खबरें पढ़कर इस बात को देखकर दुखी हैं कि पार्टी में क्या हो रहा है। 
 
2002 के गोधरा दंगों के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेयी नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री पद से हटाना चाहते थे। आज वही मोदी भाजपा पर अपना शिकंजा कसे हुए हैं। अच्छे-पुराने दिनों की तरह आज वाजपेयी को कोई पार्टी के बारे में शिकायत करने नहीं आता, न ही उनकी कोई कविता सुनता है। 6 दशक पुराने वाजपेयी के मित्र एन.एम. घटाटे उनको प्रत्येक सप्ताह नियमित रूप से मिलने आते हैं। 
 
उनका कहना है कि मनमोहन सिंह वाजपेयी के स्वास्थ्य के बारे में नियमित रूप से पूछताछ करते हैं। वह वाजपेयी को उनके जन्मदिन पर निजी तौर पर बधाई देना नहीं भूलते।
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You