चमचमाते बाजार तो तंग गलियां भी हैं यहां

  • चमचमाते बाजार तो तंग गलियां भी हैं यहां
You Are HereNcr
Friday, March 28, 2014-1:07 PM

नई दिल्ली : नई दिल्ली लोकसभा क्षेत्र दिल्ली के सभी लोकसभा क्षेत्रों में एकलौता ऐसा इलाका है जहां एक तरफ विश्वस्तरीय बाजार है तो दूसरी ओर तंग गलियां भी हैं। कई विधानसभा पॉश इलाकों से भरे हैं तो कई विधानसभा क्षेत्रों में स्लम इलाकों की भरमार है। 

यहां के लोग बुनियादी समस्याओं से आज भी जूझ रहे हैं। ऐसा नहीं है कि यहां की समस्याओं के बारे में इनके जनप्रतिनिधि को पता नहीं है। अपनी समस्याओं को लेकर यहां के लोग समय-समय पर हर उस दरवाजे को खटखटाते रहे हैं जहां से इनकी समस्याओं का समाधान हो सकता था लेकिन स्थिति ढाक के तीन पात वाली रही। 

इस लोकसभा क्षेत्र में कनॉट प्लेस, करोल बाग, सरोजनी नगर व साऊथ एक्सटैंशन जैसे विश्वस्तरीय बाजार हैं, जहां देश-विदेश लोग खरीददारी करने आते हैं। इन इलाकों को चमकाने के लिए सरकारी बजट में भी मेहरबानी दिखाई जाती है ताकि दुनिया के सामने देश का ग्राफ और छवि बेहतर बनी रहे।

यहां झांकने वाला कोई नहीं

 वहीं, नारायणा, राजेंद्र नगर,  इंद्रपुरी, शादीपुर व टोडापुर जैसे इलाके भी हैं, जहां पर लोगों को बुनियादी समस्याओं से जुझना पड़ता है। यहां पीने के पानी और इलाज के लिए बेहतर चिकित्सा के साधन तो दूर लोगों को अच्छी सड़क तक उपलब्ध नहीं है।

पॉश व स्मल इलाके भी हैं

इस लोकसभा क्षेत्र में ग्रेटर कैलाश, जोरबाग, गोल्फ लिंक, ग्रेटर कैलाश पार्ट-1 तथा 2, डिफैंस कालोनी, पंचशील पार्क, ग्रीन पार्क, हौजखास, असैद गांव, सिरीफोर्ट, सफदरजंग एंक्लेव, नीति बाग, गुलमोहर पार्क, गीतांजलि एंक्लेव, शिवालिक, आनंद निकेतन समेत अनेक पॉश इलाके हैं, जहां सूई भी गिर जाए तो संसद तक आवाज चली जाती है।

इन इलाकों पर नहीं दिया गया ध्यान

दूसरी ओर कठपुतली कालोनी, नारायणा, आर.के. पुरम, मोती नगर, कीर्ति नगर, वसंत विहार तथा चाणक्यपुरी में काफी संख्या में लोग स्लम इलाकों में रहते हैं। जहां दूषित पानी पीने से पूरा इलाका भी बीमार हो जाए तो स्थानीय जनप्रतिनिधि को भी पता नहीं चलता।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You