नीतीश का सहयोगी अनंत सिंह मोकामा का ‘डॉन’

  • नीतीश का सहयोगी अनंत सिंह मोकामा का ‘डॉन’
You Are HereNational
Sunday, March 30, 2014-1:20 AM

नई दिल्ली : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का करीबी सहयोगी अनंत सिंह अपने ब्लॉग पर खुद को ‘छोटे सरकार’ कहता है। शायद वह यह जताना चाहता है कि उसके द्वारा किए जाने वाले अपराध बुराई के खिलाफ और अच्छाई के हक में होते हैं। न्याय हासिल करने के लिए जहां कई बार अंतहीन प्रतीक्षा करनी पड़ती है, उसने इसे जल्दी हासिल करने का जरिया अपना लिया है और वह जरिया है बंदूकें एवं ङ्क्षहसा। उसने अपने भाई को मारने वाले नक्सलवादी समर्थकों का कत्ल कर दिया था।

मोकामा में इस ‘डॉन’ की समानांतर सरकार चलती है। उसके खिलाफ कई मामले भी सामने आए लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। उसने अपनी खुद की एक मलीशिया (निजी सेना) बना रखी है। 2005 में लालू प्रसाद यादव के खिलाफ चुनाव लडऩे के दौरान नीतीश ने बिहार को अपराधियों से मुक्त करने का वायदा किया था। नीतीश के सत्ता में आने पर 83,000 अपराधियों को अदालतों द्वारा दोषी करार दिया गया। हजारों अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल पहुंचा दिया गया जिनमें लालू प्रसाद का करीबी मोहम्मद शहाबुद्दीन भी शामिल है।

सत्ता में आने के बाद नीतीश ने बिहार में जंगल राज खत्म करने के लिए वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ एक मीटिंग की। डी.जी.पी. अभ्यानंद ने कहा कि भले ही पुलिस को अपराधियों से निपटने के लिए खुली छूट दी गई लेकिन कोई भी अनंत सिंह को छूने की भी हिम्मत नहीं कर सकता था। 2005 में उसने शहाबुद्दीन को चुनौती दी और खुद को यहां के अगले बाहुबली के तौर पर स्थापित किया। तब लालू और नीतीश दोनों ने उसे अपनी-अपनी पार्टियों के लिए काम करने के लिए न्यौता दिया। हालांकि अनंत को हमेशा नीतीश का करीबी माना गया। 2005 में चुनाव जीतने के लिए नीतीश ने अनंत का इस्तेमाल किया था। 2007 में अनंत ने रेशमा खातून नामक युवा महिला से बलात्कार और हत्या मामले में संलिप्तता पर उससे सवाल पूछने वाले न्यूज चैनल के 2 पत्रकारों की पिटाई कर दी थी लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश ने इस बारे में कुछ भी नहीं कहा।

150 मामले हैं दर्ज
अनंत सिंह के खिलाफ 150 मामले दर्ज हैं लेकिन अपने इलाके में उसकी छवि ‘रॉबिनहुड’ जैसी है जहां वह लोगों की सहायता और सामूहिक विवाह का आयोजन भी करता है। अनंत सिंह का दावा है कि अपने निर्वाचन क्षेत्र में वह 10,000 शादियां करवा चुका है। अनंत सिंह का कहना है कि राजनीति में झूठे लोगों की भरमार है। वे आपसे कहेंगे कि राजनीति में 3 महीनों के लिए काम करो लेकिन बाद में इसे छोडऩे नहीं देंगे। मुझे यह सब पसंद नहीं है। मैं केवल गरीबों की मदद करना चाहता हूं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You