मिशन 2014 आंध्र प्रदेश का महत्व

  • मिशन 2014 आंध्र प्रदेश का महत्व
You Are HereNational
Monday, March 31, 2014-11:34 AM
हैदराबाद: यह भारत के दक्षिण-पूर्वी तट पर स्थित राज्य है जिसकी राजधानी और सबसे बड़ा शहर हैदराबाद है। 82 प्रतिशत जनसंख्या के साथ यहां हिंदू बहुसंख्यक हैं।
 
              सीटें-543 में से 42
चुनाव     कांग्रेस     टी.डी.पी.     भाजपा       अन्य
चुनाव कांग्रेस टी.डी.पी.   भाजपा   अन्य
1989   39 - ए.आई.एम.आई.एम. 1
1991    25   13  1    ए.आई.एम.आई.एम. 1 
सी.पी.आई.1
सी.पी.एम.1   


1996   22   16   1   ए.आई.एम.आई.एम. 1 
सी.पी.आई.2
सी.पी.एम.1

1998 22   12   4    ए.आई.एम.आई.एम. 1 
सी.पी.आई.2
1999     5    29    7
ए.आई.एम.आई.एम. 1 
   
सी.पी.आई. 1
सी.पी.एम. 1                        
2004       29  5 - ए.आई.एम.आई.एम. 1
टी.आर.एस. 5
सी.पी.आई. 1
सी.पी.एम. 1   

2009  33  6   - ए.आई.एम.आई.एम. 1
टी.आर.एस.2
 
 
-आंध्र प्रदेश में मुख्य मुकाबला कांग्रेस और टी.डी.पी. में होता रहा है हालांकि अब टी.आर.एस. भी उभर रही है।
-कांग्रेस और तेदेपा का तेलंगाना, प्रांत के तटीय इलाकों और रायल सीमा में अधिक प्रभाव है।
-कांग्रेस ने 1989 में 39 सीटें जीती थीं। उसके बाद अब तक वह कभी इतनी सीटें नहीं जीत पाई है।
-टी.डी.पी. के संस्थापक एन.टी.आर. के दामाद चंद्रबाबू नायडू द्वारा पार्टी की कमान संभालने के बाद सबसे अधिक जीती गई सीटों की संख्या केवल 29 है।
-भाजपा यहां कोई करिश्मा कर पाने में विफल रही। वह टी.डी.पी. की गठबंधन सहयोगी की भूमिका ही निभाती रही है।
-वामदल जिनका प्रांत में लंबा इतिहास रहा है, चुनावों में उनका प्रदर्शन कुछ खास नहीं है। बहुत गरीब तेलंगाना क्षेत्रों में ही उनका प्रभाव है।
-ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल ने पुराने हैदारबाद शहर में एक सीट हासिल की। यहां का सांसद सईज सलाहुद्दीन ओवैसी है।

 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You