नाक का सवाल गौतमबुद्ध नगर

  • नाक का सवाल गौतमबुद्ध नगर
You Are HereUttar Pradesh
Monday, March 31, 2014-1:26 PM

नोएडा: दिल्ली से सटा गौतमबुद्ध नगर संसदीय सीट बसपा के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन गया है। 2009 के चुनाव में बसपा के खाते में जाने वाली यह सीट इस बार कांटे की टक्कर में फंसी है। बसपा के उम्मीदवार सतीस अवाना को भाजपा के महेश शर्मा व सपा के नरेंद्र भाटी से कड़ी टक्कर मिल रही है। फिलहाल त्रिकोणीय मुकाबले में बसपा छुपा रुस्तम साबित होने की कूबत रखती तो है लेकिन सशंकित पार्टी पदाधिकारियों को मायावती के 5 अप्रैल को होने वाली रैली से जीत का कुछ भरोसा है।

गौतमबुद्ध नगर बसपा सुप्रीमों मायावती का गृहजनपद भी है। इसलिए बसपा सुप्रीमो के साथ पार्टी नेताओं की इस सीट पर विशेष निगाह भी है। 2009 में यह सीट बसपा ने भाजपा से छीनी थी। तब पार्टी के सुरेंद्र नागर ने भाजपा के मौजूदा सांसद महेश शर्मा को करीबी मुकाबले में पठकनी दी थी। वैसे, साढ़े तीन लाख दलित बाल्मिकी के साथ करीब 4 लाख गूर्जर मतदाताओं को बसपा अपना परंपरागत वोट बैंक मानती रही है।

बसपा में माना जाता है कि किसी भी गूर्जर नेता को टिकट मिल जाए वह जीत जाएगा। वैसे पार्टी नेताओं को आभास नही था कि टिकट कटने के बाद पार्टी के मौजूदा सांसद सुरेंद्र नागर पाला बदलकर सपा खेमे में चले जाएंगे। बसपा के चुनाव प्रभारी बाबूलाल ने इस बारे में कहा कि नागर का टिकट काटा नही, वह खुद नहीं लडऩा चाहते थे।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You