भाजपा प्रत्याशियों की सूची में 56 नए उम्मीदवार, वर्करों में है भारी रोष

  • भाजपा प्रत्याशियों की सूची में 56 नए उम्मीदवार, वर्करों में है भारी रोष
You Are HereNational
Tuesday, April 01, 2014-2:07 AM

नई दिल्ली (विशेष): भाजपा द्वारा घोषित 56 सीटों में से आधी नए प्रत्याशियों या अन्य दलों से आए नेताओं को दी गई हैं जिसकी वजह से भगवा पार्टी के नेताओं में काफी रोष पाया जा रहा है। यह उत्तरप्रदेश और बिहार में राजनीतिक रूप में काफी निर्णायक साबित होंगी। पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह को भाजपा ने बाड़मेर से सीट नहीं दी। वहां से कांग्रेस से आए कर्नल सोना राम चौधरी को टिकट दिया गया है। इससे पार्टी के नेताओं में काफी उथल-पुथल है। पार्टी के कई वरिष्ठ नेता इससे परेशान हैं।

दूसरी पार्टियों से आए या नए नेताओं को घोषित 56 सीटों में से 28 बिहार और उत्तरप्रदेश में काफी निर्णायक रहेगी। अगर बिहार में भाजपा के 30 प्रत्याशियों में से 10 सीटें हाल ही में पार्टी में शामिल किए गए नए दलों के सदस्यों को दी गई हैं तो उत्तरप्रदेश की 75 सीटों में से 18 नए नेताओं को दी गई हैं। हरियाणा में भाजपा 8 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। उसमें से 5 सीटें नए नेताओं को दी गई हैं। दिल्ली में 7 सीटों में से 3 नए खिलाड़ी हैं। 

जद (यू) के साथ संबंध तोडऩे के बाद बिहार में भाजपा के वर्करों में काफी उत्साह था, पार्टी 25 नए प्रत्याशी खड़े करेगी। मगर दुखद बात यह है कि भाजपा ने उनमें से 10 सीटें राम विलास पासवान और कुशवाहा की पार्टियों को दे दी हैं। बाकी की 15 सीटों में से 10 की टिकट नए प्रत्याशियों को दी गई। उत्तरप्रदेश में वरिष्ठ पार्टी नेताओं ने स्वीकार किया है कि नए प्रत्याशियों को टिकट देने से वर्करों में काफी रोष है। एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि जब तक तनाव खत्म नहीं किया जाता तब तक हमें नुक्सान उठाना पड़ सकता है। बहुत से भाजपा नेताओं ने दावा किया है कि इस रोष से नरेन्द्र मोदी की लहर कम हो सकती है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You