करोड़ों की संपत्ति बनाई, अंत समय में नसीब हुआ बरामदा

  • करोड़ों की संपत्ति बनाई, अंत समय में नसीब हुआ बरामदा
You Are HereNcr
Wednesday, April 02, 2014-12:32 PM

 नई दिल्ली  (मनीषा खत्री): जब एक मां असहनीय पीड़ा सहकर एक बच्चे को जन्म देती है तो उसके रोने की आवाज सुनकर और उसका मुंह देखकर अपनी सारी पीड़ा को भूल जाती है। इतना ही नहीं मां सारी-सारी रात जागकर फिर उस बच्चे को पालती है।

इस मामले में एक महिला ने यह सब पीड़ा सहकर 4 बच्चों को जन्म दिया और उनको पाला। इतना ही नहीं इन बच्चों के लिए पति के साथ मिलकर कमाई करोड़ों रुपए की संपत्ति भी मरने से पहले उनमें बांट दी। परंतु उसने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा कि जिन बच्चों को उसने अपनी करोड़ों की संपत्ति दी है, वही बच्चे इस संपत्ति के लिए उसके कमरे पर ताला जड़कर उसके शव को घर के बरामदे में रखने पर मजबूर कर देंगे।

यह मार्मिक टिप्पणी दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक संपत्ति विवाद के मामले की सुनवाई के दौरान की है। इस मामले में महिला के 3 बेटों के बीच में उनकी संपत्ति को लेकर विवाद हो गया था और मामला अदालत पहुंच गया था। इसी कारण उन्होंने महिला के कमरे पर ताला लगा दिया और हालात ये हो गए कि बुजुर्ग महिला के एक बेटे ने अपनी मां के शव को भी उसके कमरे में नहीं रखने दिया और मजबूरी में शव को बरामदे में रखना पड़ा।

न्यायमूर्ति जी.एस. सिस्तानी की खंडपीठ के समक्ष विचाराधीन इस मामले में अदालत ने याचिका दायर करने वाले बुजुर्ग महिला के बेटे को अंतरिम राहत देते हुए इस मामले को संयुक्त रजिस्ट्रार के समक्ष भेज दिया है, जो इस मामले में आगे की सुनवाई 22 जुलाई को करेंगे।


वहीं अंतरिम राहत देते हुए कहा है कि महिला के कमरे को याचिका दायर करने वाले बेटा ही प्रयोग करेगा क्योंकि प्रथम दृष्टया उस पर उसी का हक बनता है।
इस मामले में बुजुर्ग महिला के एक बेटे ने अपने 2 भाइयों के खिलाफ केस दायर किया था। महिला ने अपने मरने से पहले 24 अप्रैल, 2009 को एक बिल बनाया था। जिसमें  निजामुद्दीन ईस्ट में स्थित घर को तीनों बेटे व बेटी में बांट दिया                  गया था।
इस घर में ग्राऊंड फ्लोर, फस्र्ट फ्लोर व सैकेंड फ्लोर था। याचिकाकत्र्ता बेटे का कहना है कि जब उसकी मां की तबीयत खराब हुई तो वह अस्पताल आदि में व्यस्त हो गया और इसी दौरान उसके एक भाई ने ग्राऊंड फ्लोर के उस कमरे पर कब्जा जमा लिया, जिसमें उसकी मां रहती थी, जबकि बिल के अनुसार उसके इस भाई को सिर्फ फस्र्ट फ्लोर मिला था।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You