क्या कांंग्रेस के मत % वृद्धि रिकॉर्ड को तोड़ पाएगी?

  • क्या कांंग्रेस के मत % वृद्धि रिकॉर्ड को तोड़ पाएगी?
You Are HereNational
Friday, April 04, 2014-11:24 AM

जयपुर: 16वीं लोकसभा के गठन के लिए राजस्थान की पच्चीस सीटों पर दो चरणों में होने वाले चुनाव में भारतीय जनता पार्टी, गत लोकसभा चुनाव में कांंग्रेस के मत प्रतिशत में 5.77 वृद्धि को तोड़ सकेगी या नहीं, इस पर राजनीतिक पंडितों की नजरें टिकी हुई हैं। 15वी लोकसभा के लिए वर्ष 2009 में हुए चुनाव में कांंग्रेस को चौदहवें आम चुनाव में मिले मत प्रतिशत सेेे 5.77 फीसद अधिक मत मिलने से कांंग्रेस की सीटें चार से बढ़कर बीस हो गई थीं।

वर्ष 1998 में कांग्रेस को 44.25 प्रतिशत वोट मिले और कांग्रेस की झोली में 25 में से 18 सीटें आईं। वर्ष 1999 के लोकसभा चुनाव में पार्टी का वोट प्रतिशत 0.87 प्रतिशत बढ़ा और 45.12 प्रतिशत वोट मिलने के बावजूद लोकसभा में कांग्रेस के मात्र नौ उम्मीदवार ही पहुंचे। राज्य निर्वाचन विभाग के अनुसार चौदहवींं लोकसभा के लिए वर्ष 2004 में हुए चुनाव में कांग्रेस का वोट प्रतिशत चार प्रतिशत गिरा और 41.42 प्रतिशत रह गया तथा लोकसभा में कांग्रेस उम्मीदवारों की संख्या केवल चार रह गई।

15वीं लोकसभा के गठन के लिए वर्ष 2009 मेंं कांग्रेस का मत प्रतिशत 5.77 बढकर 47.19 होने पर कांंग्रेस को 16 सीटें मिलीं। 15वीं लोकसभा मेंं कांंग्रेस के चार से बढ़कर बीस उम्मीदवार लोकसभा में पहुंचे। निर्वाचन विभाग के अनुसार हालांकि वर्ष 1998 से वर्ष 2004 के तीन लोकसभा चुनावों में भाजपा का वोट प्रतिशत लगातार बढ़ा लेकिन वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में वोट प्रतिशत में 12.44 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई और इसका प्रभाव लोकसभा में पार्टी की संख्या पर भी पड़ा। पार्टी का प्रतिनिधित्व करने वाले सदस्यों की संख्या 2004 के 21 के मुकाबले घटकर चार रह गई।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You