डूसू के 2 पूर्व अध्यक्ष प्रचार में आमने-सामने

  • डूसू के 2 पूर्व अध्यक्ष प्रचार में आमने-सामने
You Are HereNational
Friday, April 04, 2014-3:43 PM

नई दिल्ली (अमित कसाना): वेस्ट दिल्ली लोकसभा चुनाव प्रचार में दिल्ली विश्वविद्यालय (डूसू) के दो पूर्व अध्यक्ष आमने-सामने हैं। एक कांग्रेस के साथ तो दूसरे भाजपा के साथ खड़े हैं।

दोनों प्रत्याशी नहीं हैं, लेकिन अपने प्रत्याशी जिताने को नाक का सवाल बना लिया है। कांग्रेस की ओर से प्रचार कर रही हैं अमृता धवन और भाजपा की ओर से मनोज चौधरी।

इसके अलावा वेस्ट दिल्ली में दो पूर्व मुख्यमंत्रियों के बेटे भी इन दिनों बीजेपी के चुनाव प्रचार में नजर आ रहे हैं। इन नेताओं के जरिए दोनों पार्टियों ने युवाओं के मत अपने पक्ष में करने की रणनीति बनाई है। इन नेताओं को पदयात्राओं व डोर टू डोर प्रचार की जिम्मेदारी दी गई है। 

 अमृता धवन वर्ष 2006-2007 में कांग्रेस की छात्र इकाई इंडियन नेशनल स्टूडेंट यूनियन (एनएसयूआई) से डूसू अध्यक्ष बनी थीं। अमृता वर्तमान में वार्ड नंबर 116 विकासपुरी ईस्ट से निगम पार्षद है।

इतना ही नहीं वर्ष 2013 विधानसभा चुनावों में तिलक नगर विधानसभा से कांग्रेस ने उन्हें अपना प्रत्याशी बनाया था। लेकिन उस समय वह आप के जरनैल सिंह से हार गईं थीं।

वर्तमान में अमृत धवन एनएसयूआई की राष्ट्रीय महासचिव है और दिल्ली में कांग्रेस के तेज तर्रार युवा नेताओं में उनकी गिनती होती है। उधर, मनोज चौधरी 2009-2010 में डूसू अध्यक्ष थे।

मनोज के चुनाव में खास बात यह थी की वह बीजेपी छात्र इकाई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) द्वारा टिकट न मिलने पर निर्दलीय खड़े हुए और करीब 18 वर्ष बाद डूसू में कोई निर्दलीय प्रत्याशी अध्यक्ष पद पर काबिज हुआ था। 

हालांकि इस दरम्यान चुनाव से पहले ही ए.बी.वी.पी. के प्रत्याशी का नामांकन ही रद्द हो गया था और भाजपा द्वारा मनोज को अंदरखाते समर्थन देने की बात भी सामने आई थी। चुनाव बाद  मनोज ने फिर ए.बी.वी.पी. का दामन थाम लिया था।

अभी मनोज भाजपा युवा मोर्चा के उपाध्यक्ष हैं और युवाओं के मुद्दों को लगातार उछालते आए हैं। 

बेटे भी प्रचार में 

वेस्ट दिल्ली लोकसभा प्रचार में संयोग और समीकरणों का दिलचस्प खेल चल रहा है। यहां दो पूर्व मुख्यमंत्री मदन लाल खुराना और साहिब सिंह वर्मा के बेटे भी चुनाव प्रचार में नजर आ रहे हैं।

यहां शहरी कृत इलाके में बीजेपी के चेहरे माने जाने वाले मदन लाल खुराना के बेटे विमल खुराना व देहात के चर्चित चेहरे साहिब सिंह के बेटे सिद्धार्थ वर्मा भी अपने भाई प्रवेश के प्रचार में दिख रहे है।

दोनों को लोगों से फेस टू फेस मिलकर मतदाताओं को अपने पक्ष में करने की रणनीति पर चुनाव प्रचार में उतारा गया है। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You