स्ट्रिंग से साबित होता है कि ढांचा गिराने का षडयंत्र था: दिग्विजय

  • स्ट्रिंग से साबित होता है कि ढांचा गिराने का षडयंत्र था:  दिग्विजय
You Are HereNational
Friday, April 04, 2014-6:05 PM

रायसेन: कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने आज कहा कि वर्ष 1992 में अयोध्या में विवादित ढांचा गिराने संबंधी स्ट्रिंग आपरेशन से साबित होता है कि उस ढांचे को गिराने का षडयंत्र रचा गया था। पूर्व मुख्यमंत्री सिंह ने मध्यप्रदेश के रायसेन में पत्रकारों से चर्चा में यह बात कही। उन्होंने कहा कि स्ट्रिंग से साफ है कि ढांचा गिराने की साजिश भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विश्व हिंदू परिषद और इससे जुडे संगठनों की थी। उन्होंने मांग की कि इस मामले के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होना चाहिए। विदिशा संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह का नामांकनपत्र दाखिल कराने आए सिंह ने मतदान के लिए इस्तेमाल होने वाली इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) का जिक्र करते हुए कहा कि उन्हें इन मशीनों पर भरोसा नहीं है।

दिग्विजय ने कहा कि हाल में संपन्न विधानसभा चुनावों में यह शिकायतें सामने आयी हैं कि ईवीएम में बटन कहीं भी दबाओ वोट सत्तारूढ दल भाजपा के पक्ष में गया। विदिशा में कांग्रेस के डमी उम्मीदवार को उतारे जाने संबंधी सवाल पर उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन पर उन्हें भरोसा नहीं है इसलिए उन्होंने कांग्रेस के डमी उम्मीदवार को खडा किया है। सिंह ने दावा किया कि पिछले लोकसभा चुनाव में विदिशा से कांग्रेस प्रत्याशी राजकुमार पटेल का पर्चा भी गलत ढंग से खारिज किया गयाथा। उन्होंने कहा कि अब पटेल की कांग्रेस में वापसी होना चाहिए। विदिशा में वर्ष 2009 में कांग्रेस प्रत्याशी पटेल का नामांकन कथित तकनीकी त्रुटि के कारण खारिज कर दिया गया था। इस वजह से उस समय कांग्रेस का प्रत्याशी चुनाव मैदान से बाहर हो गया था। इसकीघटनाक्रम के चलते पटेल को कांग्रेस ने पार्टी से निष्कासित कर दिया था।



 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You