इस देश को कांग्रेस मुक्‍त बनाना है: नरेंद्र मोदी

  • इस देश को कांग्रेस मुक्‍त बनाना है: नरेंद्र मोदी
You Are HereNational
Saturday, April 05, 2014-6:28 PM
अहमदाबाद: भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने आज यहां कहा कि उन्होंने गांधीनगर से चुनाव नहीं लडऩे की बात कभी नहीं की। लालकृष्ण आडवाणी ने नरेंद्र मोदी के साथ एकजुटता जताते हुए उनकी मौजूदगी में आज गांधीनगर लोकसभा निर्वाचन सीट से अपना नामांकन दाखिल किया। स्वयं मोदी ने गांधीनगर के निर्वाचन अधिकारी को नामांकन पत्र सौंपा। इस सीट से पांच बार सांसद रह चुके आडवाणी के नरेंद्र मोदी से कथित मतभेदों के कारण भोपाल से चुनाव लडऩे की इच्छा जताने से उठे विवादों के संबंध में पूछे गए प्रश्नों के उत्तर में उन्होंने यह बात कही।
 
यह पूछे जाने पर कि क्या वह गांधीनगर से खड़े होकर खुश हैं, उन्होंने कहा, 'बिल्कुल खुश हूं। आखिरकार, गांधीनगर और गुजरात के साथ मेरे संबंध यहां से चुनाव लडऩे के साथ शुरू नहीं हुए हैं। ये संबंध भारत की आजादी से जुड़े दुर्भाग्यपूर्ण पहलू (विभाजन) से शुरू हुए।' उनके गांधीनगर के बजाए भोपाल को कथित प्राथमिकता देने के बारे में पूछे जाने पर आडवाणी ने कहा, 'नहीं, यह पूरी तरह सच नहीं है। भोपाल से भी खड़े होने के लिए मध्यप्रदेश की ओर से काफी मजबूत अनुरोध था।'

इस सीट के लिए 30 अप्रैल को चुनाव होगा। आडवाणी की पुत्री प्रतिभा के भी मौजूद रहने की संभावना है। आडवाणी ने पहले गांधीनगर के बजाए मध्यप्रदेश के भोपाल से चुनाव लडऩे की इच्छा जाहिर की थी लेकिन उन्होंने बाद में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और पार्टी के हस्तक्षेप के बाद गांधीनगर से चुनाव लडऩे का निर्णय लिया। 
पार्टी और संघ का कहना था कि यदि आडवाणी गुजरात से चुनाव नहीं लड़ेंगे तो इससे गलत संदेश जाएगा और उन्हें उसी सीट से चुनाव लडऩा चाहिए जिसका वह पिछले कई वर्षों से प्रतिनिधित्व करते आए हैं। 

मोदी ने यहां भाजपा के दिग्गज नेता सह उम्मीदवार लालकृष्ण आडवाणी के नामांकन से पहले आयोजित पार्टी के विजय विश्वास सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि यह चुनाव देश की जनता खुद लड़ रही है और उसने पहले ही परिणाम भी दे दिया है। भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने आज दावा किया कि आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हालत, आपातकाल के बाद के उसके हार से भी बदतर होगी और आजादी के बाद पहली बार कई राज्यों में उसका खाता तक नहीं खुलेगा जबकि किसी भी प्रदेश में उसकी सीटे दहाई के आंकड़े को नहीं छू सकेंगी। कांग्रेस ऐसी भयंकर पराजय झेलने जा रही है जैसी पहले कभी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि वह देश को कांग्रेस मुक्त बना कर इसे महंगाई, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी जैसे संकटों से मुक्त करना चाहते हैं। 
 
          
 
 

 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You