कार्यकत्र्ताओं को मिल रहा मन पसंद व्यंजन

  • कार्यकत्र्ताओं को मिल रहा मन पसंद व्यंजन
You Are HereNational
Sunday, April 06, 2014-3:52 PM

नई दिल्ली (कार्तिकेय हरबोला): चुनाव प्रचार के अंतिम चरण के नजदीक आते ही कार्यकत्र्ताओं की मांग बढऩे लगी है, जो कार्यकत्र्ता पहले पूड़ी-सब्जी खाकर पार्टी के लिए प्रचार करते थे। वे अब नए-नए व्यंजनों की मांग करने लगे हैं।

कार्यकत्र्ता लोकसभा चुनाव का प्रचार करने के बाद शाम के वक्त खाने में जहां शाही-पनीर, दाल-मखनी के अलावा मुर्ग-मुस्लम की मांग कर रहें हैं। वहीं, दिन की थकान को मिटाने के लिए मदिरा की मांग भी जोरो पर है। उम्मीदवारों की मजबूरी बन गई है कि वे कार्यकत्र्ताओं की मांग पूरी करें।

उम्मीदवार जब इलाके में प्रचार के लिए जाते हैं, तो उनके साथ सैकड़ों में पार्टी कार्यकत्र्ता वोट देने की अपील करते हैं और नेता जी के जिंदाबाद के नारे लगाते हैं। नारों में कोई कमी न रह जाए, इसके लिए उम्मीदवार भी कार्यकत्र्ताओं के खाने-पीने की उचित व्यवस्था करते हैं।

ऐसा खाना सिर्फ चुनाव मेंपश्चिमी दिल्ली लोकसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार महाबल मिश्रा के लिए चुनाव प्रचार में जुटे कार्यकत्र्ता की मानें तो अन्य दिनों में तो पूड़ी-सब्जी ही खाने को मिलती है।  नॉर्थ-वेस्ट लोकसभा सीट से भाजपा के उम्मीदवार उदित राज के चुनाव प्रचार में जुड़े किशोर का कहना है कि सुबह से देर शाम तक कई जन सभाओं में जाना होता है। यदि ठीक से खाना नहीं खाएं तो अलगे दिन प्रचार करने की शक्ति ही नहीं बचेगी।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You